corona सीरम के वैक्सीन कोविशील्ड पर नया विवाद, कोर्ट ने भेजा नोटिस!
खुशखबरी: अगले महीने तक आ सकती है कोरोना वायरस की वैक्सीन

पुणे की एक दिवानी अदालत ने जारी किया नोटिस

कोरोना वायरस का कहर अभी थमा नहीं है. वहीं देश में कोरोना वायरस के संकट को रोकने के लिए वैक्सीन को मंजूरी दी जा चुकी है. सरकार ने देश में 2 वैक्सीन को इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी है. इस बीच सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोरोना वैक्सीन के नाम को लेकर विवाद सामने आया है. इसको लेकर पुणे की एक दिवानी अदालत ने एक दवा कंपनी और विक्रेता की अर्जी पर सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को नोटिस जारी किया.

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोरोना वैक्सीन को भी मंजूरी दी है. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की ओर से तैयार की गई इस वैक्सीन को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कोविशील्ड नाम दिया है. वहीं वैक्सीन के नाम को लेकर सीरम को नोटिस मिला है. इस नोटिस में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को उसके आगामी कोरोना टीकाकरण में कोविशील्ड ट्रेडमार्क या अन्य मिलते-जुलते नामों का इस्तेमाल करने से रोकने का अनुरोध किया गया है.

नांदेड़ की कंपनी क्यूटिस बायोटेक ने अर्जी दायर की है. इसमें दावा किया गया है कि वह एंटीसेप्टिक, सैनिटाइजर आदि अपने उत्पादों के लिए 2020 से ही कोविशील्ड ट्रेडमार्क का इस्तेमाल कर रही है. मामले में कंपनी ने 29 अप्रैल 2020 में कोविशील्ड ट्रेडमार्क के रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन दिया था, जो लंबित है और कंपनी 30 मई 2020 से अपने उत्पादों के लिए इस ट्रेडमार्क का इस्तेमाल करती आ रही है.

बजट सत्र की तारीखों का हुआ ऐलान, 29 जनवरी से होगा शुरू

Previous article

SC की अहम टिप्पणी, गृहिणियां आर्थिक योगदान नहीं देतीं, ये सोच ही गलत

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured