गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलने के साथ प्रदेश में शुरू हुई चारधाम यात्रा

ऋषिकेश। गंगोत्री यमुनोत्री के कपाट खुलने के साथ ही चारधाम यात्रा का आगाज हो गया। चारधाम जाने वाले अब तक कुल 2462 यात्री पंजीकरण करा चुके हैं। सिक्योरिटी सिस्टम इंडिया प्रा.लि. द्वारा किए जा रहे चार धाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं के पंजीकरण के दौरान 2462 यात्रियों का पंजीकरण किया गया है।

बता दें कि सिक्योरिटी सिस्टम के प्रभारी श्रीनिवासन का कहना है कि 222 रेलवे स्टेशन और आनलाइन 140 सहित कुल 2462 यात्रियों का पंजीकरण हुआ है। ऋषिकेश प्रभारी हेमकुंड यात्रा के लिए जाने वाले यात्रियों के रेलवे स्टेशन के अलावा अन्य स्थानों पर पंजीकरण करने की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। जिसे लेकर आपातकालीन सेवा 108 ने भी कमर कस ली है। चारधाम यात्रा मार्गों पर इस बार आठ अतिरिक्त 108 एंबुलेंस तैनात की जाएंगी। इसके बाद चारधाम यात्रा मार्गों पर एंबुलेंस की संख्या बढ़कर 48 हो जाएगी। ताकि किसी भी तरह की आपात स्थिति में यात्रियों की मदद के लिए एंबुलेंस समय पर पहुंच सके।

वहीं 108 स्टेड हेड मनीष टिंकू ने बताया कि इन अतिरिक्त एंबुलेंस की व्यवस्था खुशियों की सवारी योजना के अंतर्गत उपलब्ध एंबुलेंस के माध्यम से की गई है। जिनकी तैनाती चमोली में बदरीनाथ व पांडुकेश्वर में, रुद्रप्रयाग में बासुकेदार, फाटा व सोनप्रयाग में, उत्तरकाशी में हर्षिल (गंगोत्री) व रानाचट्टी (यमुनोत्री) में और टिहरी में कांडीखाल में की जाएगी। उन्होंने बताया कि क्योंकि अभी गंगोत्री व यमुनोत्री के ही कपाट खुल रहे हैं, ऐसे में उत्तरकाशी व टिहरी जनपद में ही तीन स्थानों पर अतिरिक्त एंबुलेंस तैनात की गई है। शेष पांच स्थानों पर एंबुलेंस की तैनाती भी जल्द की जाएगी।

उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा के दौरान देश विदेश के लाखों श्रद्धालु यात्रा के लिए पहुंचते हैं। इस दौरान सड़क दुर्घटना, श्वास संबंधी परेशानी, रक्तचाप आदि के कारण घटित होने वाली आपातकालीन मामलों में वृद्धि हो जाती है। ऐसे में पीडि़त व्यक्ति को जरूरत के समय एंबुलेंस वाहन उपलब्ध कराने के उद्देश्य से अतिरिक्त एंबुलेंस तैनात करने का निर्णय लिया गया। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के निर्देशानुसार चारधाम यात्रा मार्गों में तैनात होने वाले 160 से अधिक पुलिस कर्मियों व स्वास्थ्य विभाग के पैरा मेडिकल व अन्य स्याफ को उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग व चमोली में फस्र्ट रिस्पांडर प्रशिक्षण प्रदान किया जा चुका है।