September 27, 2021 7:38 pm
featured यूपी

राजेश अग्रवाल के विजन ने बरेली को दिखाई विकास की राह

राजेश अग्रवाल के विजन ने बरेली को दिखाई विकास की राह

 

  • लखनऊ-दिल्ली के बीच बसे बरेली को सामूहिक प्रयासों से औद्योगिक नगरी बनाना चाहते हैं भाजपा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष
  • Exclusive Interview: विकास की बात, राजेश अग्रवाल के साथ

 

लखनऊ/बरेली: “सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं,

मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए।”

अमर कवि दुष्यंत कुमार की ये पंक्तियां भाजपा के बरेली से कैंट विधायक और राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष राजेश अग्रवाल के जीवन का सूत्रवाक्य हैं। राजनीति में पदार्पण से पहले व्यापार और व्यापारियों के लिए तत्पर रहने वाले राजेश अग्रवाल राजनीति में आने के बाद शहर की जनता के लिए लगातार कुछ ना कुछ करने का प्रयास करते रहे हैं। बरेली के विकास को लेकर वह क्या सोचते हैं, 1993 में पहला चुनाव जीतने के बाद अब तक उनका शहर के विकास में क्या योगदान रहा है, तेजी से बदल रहे शहर में और कौन-कौन सी सुविधाएं होनी चाहिए, ऐसे ही तमाम मुद्दों पर राजेश अग्रवाल ने भारत खबर की टीम के साथ खुलकर बातचीत की। उन्होंने कहा कि, बरेली में विकास की अपार संभावनाएं हैं। सब साथ मिलकर चलें तो शहर को दुनिया के नक्शे पर चमकने से कोई नहीं रोक सकता।

राजेश अग्रवाल लगातार छह बार से विधायक हैं। चार बार शहर सीट से जीतने के बाद भाजपा के लिए मुश्किल मानी जाने वाली कैंट सीट पर दो बार जीत का परचम लहरा चुके हैं। राजनीति में आने से पहले वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में सक्रिय थे। 1993 में पार्टी ने उन्हें पहली बार शहर सीट से लड़ने का मौका दिया। इस सीट पर यह चुनाव जीतने के बाद वो 1996, 2002 और 2007 में भी विजेता बने। इसके बाद जब कैंट सीट बनी तो राजेश अग्रवाल 2012 और 2017 में विधायक बने। राजेश अग्रवाल पूर्व में व्यापार कर मंत्री और 2004 से 2007 तक विधानसभा उपाध्यक्ष भी रहे हैं। पेशे से व्‍यापारी राजेश अग्रवाल वर्तमान में बीजेपी के राष्‍ट्रीय कोषाध्‍यक्ष हैं।

राजेश अग्रवाल ने बताया कि, भाजपा में आने से पहले वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक छोटे कार्यकर्ता पदाधिकारी थे। जब उनसे कहा गया कि आपको चुनाव लड़ना है तब उन्‍हें यह भी नहीं पता था कि कैसे टिकट मिलता और चुनाव लड़ने के लिए क्‍या करना होता है। उन्होंने कहा कि, संघ का कार्य करते समय उनमें बहुत आत्मविश्वास था और उस समय बरेली शहर था, जिसकी हर गली, हर क्षेत्र उनका देखा हुआ था।

‘1993 में चुनाव जीतने पर हुई खुशी’

उन्‍होंने बताया कि, 1993 में जब चुनाव का परिणाम आया और उन्‍हें जीत मिली तो उन्‍हें बड़ी खुशी हुई। उस समय उन्‍होंने बरेली की जनता से एक ही बात कही थी कि उनसे ईमानदारी से राजनीति करानी है तो इसकी जिम्मेदारी जनता की ही होगी और इसमें जनता ने उनका पूरा साथ दिया।

भाजपा के राष्‍ट्रीय कोषाध्‍यक्ष ने बताया कि, जब यूपी सरकार में वित्त मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद उन्‍हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी का राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष घोषित किया तो वह बहुत खुश हुए। उन्‍होंने कहा, मैंने महसूस किया कि मुझे बड़े पदों पर कार्य करने के अनुभव का लाभ मिला और इसके लिए मैंने बरेली की जनता को भी दिल से धन्‍यवाद दिया।

शहर में बदलाव के लिए हमेशा की ईमानदार कोशिश

कैंट विधायक ने कहा कि, मैं बरेली का नागरिक पहले हूं और जनप्रतिनिधि बाद में हूं। ऐसे में जब मुझे अवसर मिला तो मैंने बरेली के विकास के बारे में सोचा। हां, जब मैंने देखा कि हर एक चीज में राजनीति आड़े आती है तो मेरा मन खट्टा जरूर हुआ, लेकिन मैं अपनी राह पर अडिग रहा है और जिनता संभव हो सका बरेली के विकास में अपना योगदान दिया। बदलाव के लिए हमेशा ईमानदार कोशिश की।

राजेश अग्रवाल ने कहा कि, दिल्ली और लखनऊ के केंद्र में बसे बरेली को विकास की बहुत जरूरत है। इसके एक तरफ दिल्ली तो एक तरफ लखनऊ है और उसके मध्य का केंद्र बरेली है। लेकिन, ये मध्य का केंद्र होने के बाद भी पिछड़ा हुआ है। गेटवे ऑफ़ उत्तराखंड कहलाता है, बावजूद इसके पिछड़ा हुआ है। आज दुर्भाग्य है कि यहां हैवी इंडस्ट्रीज बंद हो चुकी हैं। बरेली में 400 से ज्यादा छोटी यूनिट दाल मिलों की थीं और शहर के अंदर 12 से 15 राइस मिल चला करती थीं, लेकिन ये सब चीजें पिछड़ चुकी हैं। इसका कारण यह है कि यहां जो सुविधाएं होनी चाहिए थीं, वह सुविधाएं यहां नहीं हो पाई और इसके लिए मैंने बहुत प्रयास किया।

‘बरेली के विकास के लिए बनाईं तमाम योजनाएं’ 

उन्‍होंने कहा, बरेली के विकास के लिए मेरे दिमाग में बहुत सारी प्लानिंग हैं। सबसे पहले बरेली के नेशनल हाईवे पर पुराना किला पुल है, अगर वह खराब हो गया तो शहर में एंट्री बंद हो जाएगी। ऐसे में उसका तुरंत निर्माण होना चाहिए और यह उसी तरह महत्वपूर्ण होगा, जैसे शहामतगंज पुल। मैंने अपने वित्‍त मंत्री के कार्यकाल में इस पुल का निर्माण पूरा कराया। अगर यह पुल ना बना होता तो बरेली दो भागों में बंट जाता। पुल सपा की सरकार में स्वीकृत हो गया था, मगर इसका तमाम काम होना बाकी था, जिसे मैंने प्राथमिकता से पूरा किया। इसके लिए जो भी जरूरी बजट था, उसको रिलीज किया। राजेश अग्रवाल पुल स्वीकृत करने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और शहर में उनके मित्रों का शुक्रिया अदा करना भी नहीं भूले।

भाजपा विधायक ने कहा, बरेली में औद्योगिक विकास और कुटीर उद्योगों की बहुत जरूरत है। यहां खाद्यान्न और प्राकृतिक संसाधन बहुत ज्‍यादा हैं और उन सब को मिलाकर और एक अच्छी सोच रखकर अगर हम लोग विकास की ओर जाते हैं तो बहुत अच्छा रहेगा। बरेली आज पावर सेक्टर में भी बहुत मजबूत हो गया है। उन्‍होंने कहा कि, जन‍प्रतिनिधि, बरेली विकास प्राधिकरण और अन्‍य अधिकारी मिलकर बरेली की विकास की राह बना रहे हैं।

‘यह बरेली, मेरी बरेली है’ के विजन पर होगा काम: राजेश अग्रवाल

राजेश अग्रवाल ने कहा कि, जब ‘यह बरेली, मेरी बरेली है’ के विजन पर काम होगा, तभी बरेली का विकास होगा। जिले के विकास के लिए उन्‍होंने कहा कि, बरेली के सेंटर में बने मेंटल हॉस्पिटल को यहां से अलग शिफ्ट करना चाहिए। इसी तरह हार्ट ऑफ द सिटी के रोडवेज वर्कशॉप को यहां से हटाकर वर्तमान स्थित रोडवेज के पास शिफ्ट करने से रोडवेज की भी स्थिति सुधर जाएगी। साथ ही जिले की चारों सड़कों पर एक-एक छोटा स्‍टॉपेज बना सकते हैं, जिससे बरेली के विकास को बहुत तेजी से आगे बढ़ाया जा सकता है।

सब मिलकर काम करेंगे तो देशभर में रोशन होगा बरेली का नाम: राजेश अग्रवाल 

उन्‍होंने कहा कि, यहां के जनप्रतिनिधियों, व्‍यापारियों, डॉक्टर्स और अन्य प्रतिष्ठित लोगों की मिलकर बैठक होनी चाहिए और इसके विकास पर मंत्रणा होनी चाहिए। मेरे दिमाग में बहुत सारी चीजें चल रही हैं, जिसके लिए मैं लगातार कोशिश कर रहा हूं। उन्‍होंने कहा, कैंट और पुराने शहर में विकास की बहुत जरूरत है। लोगों को एयर कंडीशन से निकलकर जमीनी स्तर पर समस्याएं जाननी चाहिए। राजेश अग्रवाल ने कहा कि, अगर योजनाबद्ध और बड़े विजन के साथ काम किया जाए तो निश्चित रूप से बरेली का नाम देशभर में रोशन होगा।

 

यहां देखें वीडियो: 

 

 

Related posts

दिल्ली छोड़ जालंधर लौटी गुरमेहर, रेप धमकी मामले में दर्ज हुई FIR

shipra saxena

महापौर पर कमीशन मांगने को लेकर केस हुआ दर्ज

kumari ashu

भ्रष्टाचार के मामले में नवाज़ और मरियम को लंदन से लौटते ही किया गया गिरफ्तार

Rani Naqvi