उत्तराखंड

बचपन से देख नहीं सकती नेहा लेकिन अपने सुरों से पहुंच रही लोगों के दिलों तक

Screenshot 1677 बचपन से देख नहीं सकती नेहा लेकिन अपने सुरों से पहुंच रही लोगों के दिलों तक

Nirmal बचपन से देख नहीं सकती नेहा लेकिन अपने सुरों से पहुंच रही लोगों के दिलों तक निर्मल उप्रेती , संवाददाता

हौंसले बुलंद हो तो राह भी बन जाती है। अल्मोड़ा के मनीआगर में रहने वाली नेहा आगरी जो बचपन से देख नहीं सकती पर अपने सुरों से लोगों के दिलों तक पहुंच रही है।

यह भी पढ़े

ट्रांसपेरेंट ब्लू सूट पहन निया शर्मा ने ढाया कहर, फैंस कर रहे तारीफ

 

नेहा को बचपन से ही गीतों का शौक था। नेहा को मंच देने का काम स्कूल की टीचर ने किया। टीचर ने नेहा को हौंसला बढ़ाया और नेहा ने कई मंचो पर गाना गाकर अपने गीतों से लोगों को अपनी ओर आकर्षित किया।

Screenshot 1678 बचपन से देख नहीं सकती नेहा लेकिन अपने सुरों से पहुंच रही लोगों के दिलों तक

कोरोना के चलते पिछले 2 सालों से नेहा घर पर ही गीतों को सीख रही है। जिसमें कुमाऊनी, गढ़वाली और भजनों को सीख रही है। नेहा को उनकी मां और भाई मदद कर रहे है। भाई ने नेहा के लिए हुड़का बनाया है। नेहा गाने गाती है तो सचिन हुड़का बजाकर नेहा का साथ देता है।

Screenshot 1676 1 बचपन से देख नहीं सकती नेहा लेकिन अपने सुरों से पहुंच रही लोगों के दिलों तक

नेहा ने बताया की उनकी मदद के लिए तो काफी लोग आगे आए हैं। लेकिन वह ऐसा कुछ करना चाहती है जिससे वह अल्मोड़ा और उत्तराखंड का नाम रोशन कर सके और उत्तराखंड की लोक परम्परा की गायन प्रतिभा आगे बढ़ सके।

Screenshot 1677 बचपन से देख नहीं सकती नेहा लेकिन अपने सुरों से पहुंच रही लोगों के दिलों तक

Related posts

बेबी रानी मौर्य ने मन्दिर में जाकर पूजा-अर्चना कर प्रदेश की सुख, शान्ति और खुशहाली की कामना की

Rani Naqvi

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने साप्ताहिक बंदी का किया खंडन, भ्रामक खबरें न फैलाने का किया आग्रह

Trinath Mishra

दुबई में चार दिवसीय अरेबियन ट्रैवल मार्केट का शुभारंभ, उत्तराखंड पर्यटन कर रहा है आयोजन

Rahul