राज ठाकरे का विरोध विफल, सरकार ने स्कूली छात्राओं को फ्री में दिखाई ‘पैडमैन’

मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार की फिल्म पैडमैन और टॉयलेट एक प्रेमकथा पर आपत्ति जताई थी। इसकी परवाह किए बिना राज्य सरकार ने सभी छात्राओं को पैडमैन फिल्म मुफ्त में दिखाने का निर्णय लिया था। इसी कड़ी में रविवार को औरंगाबाद में विशेष शो का आयोजन कर पैडमैन फिल्म स्कूली छात्राओं को दिखाई गई। कार्यक्रम में महिला व बाल कल्याण मंत्री पंकजा मुंडे पालवे भी मौजूद थी।

 

दादर के शिवाजी पार्क मैदान में पार्टी की गुढ़ी पाड़वा रैली को संबोधित करते हुए राज ने अक्षय की फिल्म पैडमैन और टॉयलेट एक प्रेमकथा पर नाराजगी जताई थी। राज ने कहा था कि यह फिल्में राज्य सरकार प्रायोजित हैं। अक्षय उम्दा कलाकार हैं, इसमें कोई शक नहीं। अक्षय से उन्हें कुछ लेना-देना नहीं है। परंतु अक्षय मौजूदा दौर के मनोज कुमार बनने चले हैं। भाजपा सरकार की छत्रछाया में भारत का प्रचार कर रहे हैं, लेकिन वे भारतीय नागरिक न होकर कनाडा के नागरिक हैं। उनका पासपोर्ट कनाडा का है। राज्य सरकार ने राज के बयानों को कोई तवज्जो नहीं दी। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस घोषित कर चुके हैं, अक्षय कुमार ने समय-समय पर राज्य सरकार को सहयोग दिया है। पैडमैन फिल्म राज्य के सभी सरकारी स्कूली बच्चों को मुफ्त में दिखाई जाएगी।

 

औरंगाबाद में आयोजित खास कार्यक्रम में पंकजा मुंडे के साथ ग्रामीण अंचलों की छात्राओं ने पैडमैन फिल्म देखी। पंकजा बताती हैं कि क्रांतिकारी अस्मिता योजना बनाकर वह खुद को गर्वान्वित महशूश कर रही हैं। यह योजना एक मई यानी महाराष्ट्र दिवस से पूरे राज्य में लागू होगी। इस महत्वाकांक्षी योजना के माध्यम से महिलाओं और युवतियों को सस्ती दर पर सैनेटरी पैड उपलब्ध कराया जाएगा। महिलाओं में माहवारी के दिनों में सैनेटरी पैड के संबंध में संकोच कम होगा। उनका आत्मविश्वास बढ़ेगा और उनके स्वास्थ्य सुधार में मदद मिल सकेगी।

 

पंकजा के मुताबिक देहाती महिलाओं और छात्राओं को सैनेटरी पैड की जानकारी मिले, इसलिए पैडमैन फिल्म का खास शो आयोजित किया गया था। फिल्म देखने के बाद छात्राओं ने कहा कि उन्हें फिल्म देखने के बाद बहुत कुछ सीखने मिला है। केवल 5 रुपए प्रति पैकेट की दर से ग्रामीण अंचलों की स्कूली छात्राओं को साल में 13 पैकेट दिए जाएंगे। योजना से ग्रामीण अंचलों के स्कूलों में छात्राओं की उपस्थिती बढ़ेगी। महिलाओं की स्वास्थ्य सुरक्षा के साथ ही, उन्हें आत्मनिर्भर बनाने में यह योजना मददगार साबित होगी। पंकजा ने कहा कि उनकी इच्छा है सभी महिलाओं को सस्ती दर पर पैड मिल सके। परंतु शुरूआत में जिला परिषद स्कूलों की छात्राओं को पैड दिए जाएंगे। स्कूल से बाहर की लड़कियों के लिए अस्मिता फंड बनाया गया है। इस फंड के माध्यम से लड़कियों को सैनेटरी पैड उपलब्ध कराए जाएंगे। अक्षय कुमार ने 10 हजार महिलाओं को पैड उपलब्ध कराने के लिए फंड में धनराशि जमा की है। इस राशि से जेल में बंद महिला कैदियों और अनाथालय की महिलाओं को सैनेटरी पैड दिए जाएंगे।