featured देश राज्य

यूपी के बाद अब हरियाणा में दी मलेरिया/डेंगू ने दस्तक, स्वास्थ्य विभाग हुआ अलर्ट

navbharat times 8 यूपी के बाद अब हरियाणा में दी मलेरिया/डेंगू ने दस्तक, स्वास्थ्य विभाग हुआ अलर्ट

तीन साल पहले तक हरियाणा राज्य के मेवात जिले में सबसे ज्यादा मलेरिया के केस पाए जाते थे। लेकिन पिछले कुछ सालों में मलेरिया पर स्वास्थ्य विभाग ने पूरी तरह से कंट्रोल किया है। साल 2021 में अब तक तीन मलेरिया के केसों की पुष्टि हो चुकी है। जिनमें महिला, बुजुर्ग, बच्चा शामिल है। लेकिन तीनों की हालत ठीक है। इसके अलावा डेंगू ने भी मेवात जिले में दस्तक दे दी है। खानपुर घाटी गांव में डेंगू के केस की पुष्टि हो चुकी है। कुल मिलाकर मेवात जिले में दूसरे जिलों की तुलना में हालात बेहतर है, लेकिन मलेरिया और डेंगू के केसों का खाता खुल चुका है।

navbharat times 8 यूपी के बाद अब हरियाणा में दी मलेरिया/डेंगू ने दस्तक, स्वास्थ्य विभाग हुआ अलर्ट

जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह अलर्ट है। सिविल सर्जन ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि जैसे ही स्वास्थ्य विभाग की टीम को जानकारी मिलती है, तुरंत उसी इलाके में टीम जाकर सैंपल लेती है और उसकी जांच कराई जाती है। अभी तक तीन मलेरिया और एक डेंगू का केस सामने आ चुका है, लेकिन चारों ही मरीजों की स्थिति बेहतर है। उन्होंने यह भी कहा कि हाल ही में दो-तीन गांव में सैंपल लिए गए हैं, लेकिन उनकी रिपोर्ट मलेरिया की नेगेटिव आ चुकी है। डेंगू की रिपोर्ट में एक – दो दिन का समय लगता है। इसलिए रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ पता चल पाएगा। सीएमओ मेवात ने कहा कि जिला मलेरिया अधिकारी विमलेश तिवारी की देखरेख में स्वास्थ्य विभाग की टीमें तुरंत गांव और शहरों में जाती हैं और सबसे पहले मरीज का सैंपल लेने का काम करती हैं।

00 613318ccd07ec यूपी के बाद अब हरियाणा में दी मलेरिया/डेंगू ने दस्तक, स्वास्थ्य विभाग हुआ अलर्ट

अगर मरीज को मलेरिया व डेंगू की पुष्टि होती है, तो उसका इलाज तुरंत शुरू कर दिया जाता है। सीएमओ ने कहा की 2025 तक देश को मलेरिया मुक्त करने की दिशा में काम हो रहा है, लेकिन उन्हें यकीन ही नहीं बल्कि पूरा भरोसा है कि जिस रफ्तार से मेवात जिले में काम हो रहा है वर्ष 2023 तक ही मलेरिया पर जिले में नियंत्रण पा लिया जाएगा। डॉ सुरेंद्र यादव ने कहा जहां तक फागिंग की बात है। शहरी क्षेत्र में नगरपालिका तथा ग्रामीण क्षेत्र में ग्राम पंचायत फागिंग के लिए मशीन व डीजल/ पेट्रोल का इंतजाम करती हैं। दवाई का इंतजाम स्वास्थ्य विभाग करता है। स्वास्थ्य विभाग के पास फागिंग करने वाली दवाई पर्याप्त मात्रा में है।

बता दें कि अगर किसी शहरी और ग्रामीण इलाके में फागिंग कराना चाहते हैं, तो स्वास्थ्य विभाग से संपर्क कर दवाई लेकर अपने क्षेत्र में आसानी से करा सकते हैं। सीएमओ डॉ सुरेंद्र यादव ने कहा कि मेवात जिले में अभी तक राहत भरी खबर है कि केस बहुत ही कम संख्या में आए हैं, जो सामने आए हैं उनका सही समय पर इलाज किया गया है और उनका स्वास्थ्य बिल्कुल ठीक है।

Related posts

जानिए पशुधन नियम पर सरकार क्यों ले रही है यू-टर्न

Pradeep sharma

पर्यावरण के साथ जल संरक्षण है बेहद जरूरी, सरकार को उठाने होंगे गंभीर कदम

bharatkhabar

श्रीकृष्ण भक्तों को सीएम योगी की सौगात, जन्माष्टमी की रात नहीं लगेगा नाइट कर्फ्यू

Shailendra Singh