featured यूपी

खुशखबरी: अयोध्या धाम के लिए लखनऊ से चलेंगी 52 बसें, ढाई घंटे में पूरा होगा सफर

खुशखबरी: अयोध्या धाम के लिए लखनऊ से चलेंगी 52 बसें, ढाई घंटे में पूरा होगा सफर

लखनऊ: राम की नगरी अयोध्या धाम जाने वालों के लिए खुशखबरी है। अब लखनऊ से अयोध्या जाने के लिए सीधे नॉप-स्टॉप बसें चलाई जाएंगी। बसों की सख्या 52 होगी, इसमें 10 बसें एयरकंडीशंड होंगी।

लखनऊ से अयोध्या जाने का पूरा रास्ता नॉन स्टॉप होगा। यात्रियों को ढाई घंटे में अयोध्या बाइपास पर बने नए अयोध्या धाम बस अड्डे पर उतार दिया जाएगा। इन बसों को लखनऊ के आलमबाग, कैसरबाग और अवध बस स्टेशन से लिंक सेवा के नाम से संचालित किया जाएगा।

सिर्फ ढाई घंटे में पहुंच जाएंगे अयोध्या

बता दें कि अयोध्या जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए नई व्यवस्था की जा रही है। जिले में जाने के लिए ज्यादा समय न लगे इसके लिए यात्रा के समय को घटाकर ढाई घंटे किया गया है। ये बसें पौराणिक नगरी में बने नये बस अड्डे अयोध्या धाम पहुंचेंगी और यहां से श्रद्धालु बसों से उतरकर आगे की यात्रा पूरी करेंगे।

इसके लिये श्रद्धालुओं को ई-रिक्शा उपलब्ध कराया जाएगा, वहीं जिन श्रद्धालुओं को पैदल जाने की इच्छा है, वो पैदल ही नया घाट, सरयू नदी के रास्ते विभिन्न मठ-मंदिरों में पहुंच सकेंगे। इसके बाद श्रद्धालु पुन: अयोध्या धाम बस अड्डा पहुंचकर लखनऊ लौट सकेंगे।

जल्द होगा नए बस अड्डे का उद्घाटन

जानकारी देते हुए उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के एमडी धीरज साहू ने बताया कि बस संचालन और यात्री सुविधाओं के लिए पर्यटन विकास निगम के साथ सहमति बन गई है। उन्होंने कहा कि अयोध्या में नए बस अड्डे की शुरूआत करने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों से समय मांगा गया है। उम्मीद है जल्द बस अड्डे के उद्घाटन की तारीख तय हो जाएगी और बसों का संचालन शुरू कर दिया जाएगा।

सीएम योगी आदित्यनाथ का है ड्रीम प्रोजेक्ट

अयोध्या को विश्व स्तरीय बनाने के लिए लगातार प्रयास जारी है। भगवान राम की नगरी में विकास के नित नए आयाम जोड़े जा रहे हैं। जिले का अयोध्या धाम बस अड्डा सीएम योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट है। अयोध्या धाम बस अड्डा 14 करोड़ रुपये की लागत से लगभग पांच एकड़ जमीन पर बनकर तैयार हुआ है।

यह भी पढ़ें: कल की पत्रकारों से बदतमीजी, आज सपाइयों के फोन बंद

Related posts

डीजी की शपथ को रिजवी का समर्थन, इकबाल ने जताया विरोध

Breaking News

राजस्थान फोन टैपिंग मामले में गृह मंत्रालय ने मुख्य सचिव से मांगी रिपोर्ट

Rani Naqvi

35 साल बाद कोई भारतीय प्रधानमंत्री पहुंचा केन्या

bharatkhabar