विदाई समारोह में बोले जनरल शरीफ, हमारी धैर्य नीति को कमजोर ना समझे भारत

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के निवर्तमान सेनाध्यक्ष राहील शरीफ ने मंगलवार को भारत को चेतावनी दी कि हमारी धैर्य की नीति को कमजोरी समझना खतरनाक साबित होगा। सेना की मीडिया शाखा के अनुसार, शरीफ राजधानी इस्लामाबाद से सटे छावनी शहर रावलपिंडी स्थित सैन्य मुख्यालय में कमान परिवर्तन समारोह के दौरान बोल रहे थे। मीडिया शाखा ने कहा कि समारोह के दौरान जनरल कमर जावेद बाजवा ने पाकिस्तान के 16वें सेनाध्यक्ष के रूप में पदभार ग्रहण किया।

raheel-shareef

समारोह में अपने विदाई भाषण में जनरल राहील शरीफ ने देश के विकास के लिए संस्थाओं के मिलकर काम करने की आवश्यकता पर जोर दिया और क्षेत्र में आक्रामक रुख अपनाने के लिए भारत को चेतावनी दी। समारोह में कुछ पूर्व सेनाध्यक्ष, संघीय मंत्री और कई देशों के राजनयिक उपस्थित थे। शरीफ ने कश्मीर घाटी का उल्लेख करते हुए कहा, ष्हाल के महीनों में जम्मू एवं कश्मीर में भारत के आतंकवादी और आक्रमक रुख से क्षेत्र में खतरा उत्पन्न हो गया है। शरीफ ने कहा कि उन्होंने उनके कार्यकाल के दौरान प्रत्येक निर्णय में देशहित को प्राथमिकता दी। लेकिन क्षेत्र में सुरक्षा की स्थिति जटिल बनी हुर्ह है।

जनरल बाजवा काफी समय तक रावलपिंडी स्थित 10 कोर कमान को अपनी सैन्य सेवाएं दे चुके हैं, जिस पर नियंत्रण रेखा की सुरक्षा की जिम्मेदारी है। नियंत्रण रेखा भारत और पाकिस्तान को बांटती है। लेकिन जनरल बाजवा जब 10 कोर कमान में थे उस समय 2003 के संघर्ष विराम समझौते के बाद नियंत्रण रेखा पर सापेक्षिक रूप से शांति थी। हालांकि नियंत्रण रेखा पर भारी तनाव के बीच उन्होंने सेना की कमान संभाली है। विगत कुछ महीनों में नियंत्रण रेखा पर दोनों ओर से भारी गोलाबारी हुई।निजी तौर पर बाजवा बुद्धिमान, सुलभ और जवानों से जुड़े हैं और सुर्खियों में रहने के भूखे नहीं हैं।वह सेना के बलूच रेजिमेंट के चौथे अधिकारी हैं जो सेनाध्यक्ष बने हैं। उनसे पहले जनरल याहिया खान, जनरल असलम बेग और जनरल कियानी इस पद तक पहुंचे थे।