लोंगेवाला की लड़ाई के शूरवीर कुलदीप सिह चांदपुरी का निधन

लोंगेवाला की लड़ाई के शूरवीर कुलदीप सिह चांदपुरी का निधन

लोंगेवाला लड़ाई के शूरवीर कुलदीप सिह चांदपुरी का निधन हो गया है।आपको याद दिला दें कि बॉलीवुड की सुपरहिट ‘बॉर्डर’ फिल्म में एक्टर सनी देओल जो किरदार निभाया था। वह सूरबीर आज हम सबको छोड़कर चला गया है।बॉर्डर फिल्म में सनी देओल ने मेजर कुलदीप सिह चांदपुरी की भूमिका निभाई है। बता दें कि मेजर कुलदीप का शनिवार को उनका मोहाली के एक अस्पताल में निधन हो गया। कुलदीप सिंह के परिवार के मुताबिक वह 78 साल के थे। वह कैंसर से पीड़ित थे।मेजर के परिवार में पत्नी और तीन बेटे हैं।

 

लोंगेवाला लड़ाई के शूरबीर कुलदीप सिह चांदपुरी का निधन
लोंगेवाला लड़ाई के शूरबीर कुलदीप सिह चांदपुरी का निधन

इसे भी पढ़ेःअपनी एक्टिंग से दर्शकों को दीवाना बनाने को तैयार सपना, बॉलीवुड में बतौर हीरोइन कर रही हैं डेब्यू

गौरतलब है कि 1971 में भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान मेजर रहे चांदपुरी ने राजस्थान के लोंगेवाला की प्रसिद्ध लड़ाई में महज 120 जवानों के साथ, पाकिस्तानी टैंकों के हमले का डटकर सामना किया था। टैंकों के खिलाफ वीरता से खड़े होने और दुश्मन को पीछे हटने के लिए मजबूर करने के लिए मेजर कुलदीप को महावीर चक्र (एमवीसी) से सम्मानित किया गया था। ब्रिगेडियर चांदपुरी और सेना के जवानों की जीत पर बाद में बॉलीवुड ब्लॉकबस्टर फिल्म ‘बॉर्डर’ बनी। जो 1997 में रिलीज हुई। फिल्म में एक्टर सनी देओल ने मेजर कुलदीप को रोल अदा किया है। फिल्म को राष्ट्रीय स्तर के कई पुरस्कारों से नवाजा गया।

इसे भी पढ़ेःबॉलीवुड एक्टर ऋषि कपूर ने न्यूयॉर्क में प्रियंका चोपड़ा और सोनाली बेंद्रे से की मुलाकात

लोंगेवाला की लड़ाई सन 1971 भारत पाकिस्तान युद्ध के दौरान पश्चिमी सेक्टर में हुई पहली बड़ी लड़ाइयों में एक थी। यह राजस्थान के थार मरुस्थल में लोंगेवाल की भारतीय सीमा चौकी पर हमलावर पाकिस्तानी सैनिकों और भारतीय सैनिकों के बीच लड़ी गई थी। भारतीय सेना की 23 वीं बटालियन में मेजर कुलदीप सिंह की कमान वाली पंजाब रेजीमेंट के पास दो विकल्प थे। एक था कि वह और जवानों के आने तक पाकिस्तानी दुश्मनों को रोकने की कोशिश करे। अथवा वहां भाग जाए। बहादुर सैनिक भागे नही बल्कि दुश्मन को खदेड़ दिया। चांदपुरी ने रेजीमेंट का कुशल नेतृत्व किया। उन्होंने अपने मजबूत बचाव की स्थिति का अधिक इस्तेमाल किया और दुश्मन की गलतियों को भुना कर जंग में अपने जीत के मंनसूबे पूरे किए।

महेश कुमार यादव