‘निश्चय यात्रा’ में विकास कार्यो का जायजा लेंगे नीतीश

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को अपनी ‘निश्चय यात्रा’ पश्चिमी चंपारण जिले से शुरू कर की। नीतीश इस यात्रा के दौरान सभी 38 जिलों का दौरा करेंगे तथा विकास कार्यो का जायजा लेंगे। इस क्रम में वह ‘चेतना सभा’ को भी संबोधित करेंगे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को पश्चिमी चंपारण जिले के नरकटियागंज से अपनी यात्रा शुरू की। नीतीश ने नरकटियागंज के लोक शिकायत निवारण अधिनियम कार्यालय का निरीक्षण किया तथा सुनवाई कक्ष में लोक शिकायत निवारण के कार्यो का जायजा लिया। इस दौरान मुख्यमंत्री लोगों से भी मिले और उनकी शिकायतें सुनीं।

nitsih

पटना से रवाना होने से पूर्व मुख्यमंत्री ने संवाददाताओं कहा कि इस यात्रा के दौरान वह सात निश्चयों के तहत हो रहे विकस कार्यो का जायजा लेंगे और राज्य में शराबबंदी के प्रभावों को नजदीक से दखेंगे। उन्होंने कहा, “सात निश्चय के तहत दो निर्णय राज्य के युवाओं के भविष्य को संवारने के लिए हैं। एक निश्चय महिलाओं के रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए 35 प्रतिशत आरक्षण देने के संबंध में है, बाकी चीजें हर घर को लाभ मिलने से संबंधित हैं।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि इन निश्चयों में ‘हर घर में बिजली’ भी है, जिसकी शुरुआत 15 नवंबर से होगी। इसके लिए सर्वेक्षण का काम पूरा कर लिया गया है। हालांकि, नीतीश की यह कोई पहली यात्रा नहीं है। इसके पूर्व भी नीतीश कुमार कई यात्राएं कर चुके हैं। मुख्यमंत्री ने इसके पूर्व वर्ष 2005 में न्याय यात्रा तथा वर्ष 2009 में विकास यात्रा, धन्यवाद यात्रा और प्रवास यात्रा की थी। इसके अलावा वह साल 2010 में विश्वास यात्रा, साल 2011 में सेवा यात्रा, साल 2012 में अधिकार यात्रा और साल 2014 में संकल्प यात्रा भी कर चुके हैं।

वहीं, विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मुख्यमंत्री की इस यात्रा क विरोध करने की घोषणा की है। बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता प्रेम कुमार ने बताया कि नीतीश कुमार जिस जिले में जाएंगे, वहां भाजपा के कार्यकर्ता उनका विरोध करेंगे। उन्होंने कहा, “मुख्यमंत्री की यह यात्रा जनता को बेवकूफ बनाने के लिए है और पिछले एक साल में सरकार की जो भी नाकामियां हैं, उस पर पर्दा डालने के लिए है। यही कारण है कि भाजपा इस यात्रा का विरोध करेगी।”