featured यूपी

काशी से लेकर वाशिंगटन तक मिलेट्स का जलवा, सूत्रधार के रूप में भारत निभा रहा अपनी भूमिका

1057570 cm yogi 2 काशी से लेकर वाशिंगटन तक मिलेट्स का जलवा, सूत्रधार के रूप में भारत निभा रहा अपनी भूमिका

 

दुनिया इस साल अंतरराष्ट्रीय मिलेट्स वर्ष मना रही है। यह आयोजन भारत की पहल पर हो रहा है।

यह भी पढ़े

वर्ल्ड कप 2023 : 46 दिन तक वनडे वर्ल्ड कप के खेले जाएंगे 48 मुकाबले, ICC ने शेड्यूल किया जारी

 

लिहाजा इसे सफल बनाने में भारत की भूमिका भी सबसे महत्वपूर्ण है। भारत को इसका अहसास है, और आयोजन के सूत्रधार के रूप में वह यह कर भी रहा है। हाल के कुछ इवेंट्स को देखें तो काशी से लेकर वाशिंगटन तक मिलेट्स का जलवा रहा। वाशिंगटन में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ भोज में अन्य व्यंजनों के साथ बाजरा के व्यंजन और मिलेट्स के केक भी थे। ग्रेमी अवार्ड विजेता भारतीय मूल की अमेरिकी नागरिक फालू के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिलेट्स को प्रोत्साहित करने के लिए, “द अवंडस ऑफ मिलेट्स” के नाम से एक गाना भी लिखा था। यह गाना गत 16 जून को रिलीज हुआ था। पिछले दिनों काशी में आयोजित जी-20 सम्मेलन में भी विदेशी मेहमानों और अन्य गणमान्य लोंगों के लिए मिलेट्स के व्यंजन को तरजीह दी गई थी।

भारत 2018 में ही राष्ट्रीय मिलेट्स वर्ष मना चुका है। उत्तर प्रदेश में हजारों वर्षों से मोटे अनाजों की खेती की परंपरा रही है। लिहाजा प्रदेश की योगी सरकार की उसकी सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका थी। अंतरराष्ट्रीय मिलेट वर्ष के लिए उनकी पहल पर घोषणा होने के साथ ही इसकी सफलता की रणनीति बन चुकी थी। यह क्रम लगातार जारी है।

कुछ दिनों पहले खूबियों से भरपूर गुड़ व मोटे अनाजों को प्रसंस्कृत कर उसे और उपयोगी बनाने के लिए गन्ना एवं चीनी विभाग ने भी पहल की। गन्ना शोध परिषद ने एक निजी संस्था के साथ इस बाबत एमओयू (मेमोरंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग) किया। इस एमओयू के तहत पहले से गुड़कारी गुड़ को मिलेट्स के अलावा औषधीय मसालों के साथ प्रसंस्कृत कर सेहत के लिहाज से और उपयोगी बनाया जाएगा। इससे विभाग से संबद्ध महिला समितियों को भी जोड़ा जाएगा। इससे स्थानीय स्तर पर महिलाओं को रोजगार मिलेगा। एक तरीके से यह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मिशन नारी सशक्तिकरण की ही एक कड़ी होगा।

मोटे अनाजों को प्रोत्साहित करने के लिए समय-समय पर मुख्यमंत्री खुद, उनके मंत्री और शासन के वरिष्ठ लोग कोई कोर-कसर नहीं छोड़ते। आयोजन कोई हो, उसके मीनू में मिलेट्स के व्यंजन जरूर रहते हैं। इस साल अक्टूबर-नवंबर में उत्तर प्रदेश में प्रस्तावित कृषि कुंभ की थीम भी अंतरराष्ट्रीय मिलेट्स वर्ष पर ही केंद्रित रहने की संभावना है। यह प्रदेश सरकार का दूसरा कृषि कुंभ होगा। पहले कृषि कुंभ का आयोजन योगी-1.0में हुआ था।

Related posts

प्रशासनिक अधिकारियों के सामने हुआ खूनी संघर्ष

piyush shukla

23 मार्च 2023 का राशिफल, जानें आज का पंचांग और राहुकाल

Rahul

उदयपुर के रास्ते मंदसौर में एंट्री करेंगे राहुल, sp और कलेक्टर का तबादला

Rani Naqvi