राज्य में पर्यटकों को को अधिकतम सुविधाएं पहुंचाने के उद्देश्य से पर्यटन विभाग काफी संजीदगी से कर रहा काम

राज्य में पर्यटकों को को अधिकतम सुविधाएं पहुंचाने के उद्देश्य से पर्यटन विभाग काफी संजीदगी से कर रहा काम

देहरादून। राज्य में पर्यटकों को को अधिकतम सुविधाएं पहुंचाने के उद्देश्य से पर्यटन विभाग काफी संजीदगी से काम कर रहा है। सचिव पर्यटन, दिलीप जावलकर इस समय कुमाऊं मंडल के दौरे पर हैं। कल इन्वेस्टमेंट पर हुए मिनी कॉन्क्लेव के सफल आयोजन के बाद आज उन्होंने हल्द्वानी-नैनीताल रोपवे मार्ग का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने पर्यटक स्थल पर ट्रैफिक, पार्किंग तथा अपशिष्ट प्रबंधन आदि समस्याओं के निराकरण हेतु संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इसके अतिरिक्त उन्होंने हेलीपैड निर्माण के मद्देनजर नारायण नगर का भ्रमण करते हुए यह जानकारी दी कि नैनीताल में हेलीपैड बनाने के लिए आवश्यक प्रयास किए जाएंगे।

 

 

बता दें कि अपने भ्रमण के दौरान उन्होंने नैनीताल के एसएसपी के साथ नैनीताल में पीक सीजन के दौरान ट्रैफिक जाम की समस्या से निजात पाने के लिए संभावित विकल्पों पर विस्तृत चर्चा की। साथ ही उन्होंने नैनीताल शहर को लेकर आईआईटी दिल्ली द्वारा तैयार किए गए मास्टर प्लान की व्यवहार्यता पर भी चर्चा की और उसके लाभदायक बिंदुओं पर अमल करने के लिए आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए.।

उन्होंने मेट्रोपोल पार्किंग साइट का निरीक्षण किया और वहां पर बहुमंजिली पार्किंग के निर्माण की संभावना पर चर्चा की। उन्होंने यहां से शीघ्र कूड़ा हटाने के लिए संयुक्त मजिस्ट्रेट तथा नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारी को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इसके बाद उन के द्वारा नारायण नगर में हेलीपैड निर्माण की संभावनाओं को देखते हुए इसकी व्यवहार्यता का निरीक्षण किया गया। उन्होंने कहा कि नैनीताल में हेलीपैड बनाने के लिए जरूरी प्रयास किए जाएंगे। ज्ञातव्य है कि यहां पर सरकार द्वारा बहुमंजिली पार्किंग के निर्माण की भी योजना है।

उन्होंने ज्योलिकोट में रानीबाग- नैनीताल रोपवे के मिड पॉइंट का निरीक्षण किया और जानकारी दी कि पर्यटन विभाग द्वारा यहां पर इको लॉग हट्स बनाए जाने की योजना है। ऐसा होने पर रोपवे के मिड-पॉइंट के रूप में इस क्षेत्र को भी एक पर्यटक गंतव्य के रूप में विकसित किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि इन योजनाओं को अमली जामा पहनाने के लिए जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं और इनका क्रियान्वयन हो जाने के बाद नैनीताल शहर में पर्यटकों को, विशेष रुप से पार्किंग और ट्रैफिक को लेकर किसी प्रकार तकलीफ नहीं उठानी पड़ेगी।