तमिल पत्रिका के संपादक की गिरफ्तारी पर MDMK चीफ ने राज्य सरकार को ठहराया दोषी

तमिल पत्रिका के संपादक की गिरफ्तारी पर MDMK चीफ ने राज्य सरकार को ठहराया दोषी

पत्रकारों की गिरफ्तारी को लेकर कई बार सरकारों पर अभिव्यक्ति की आजादी के संदर्भ आरोप लगते रहे हैं! ऐसा ही मामला एक तमिल साप्ताहिक पत्रिका के संपादक की गिरफ्तारी को लेकर प्रकाश में  आया है।जिसको लेकर द्रमुक अध्यक्ष ने सरकार की ओर इशारा करते हुए कहा कि आर गोपाल की गिरफ्तारी गलत है।

 

तमिल पत्रिका के संपादक की गिरफ्तारी पर MDMK चीफ ने राज्य सरकार को ठहराया दोषी

इसे भी पढ़ेःबांग्लादेश में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता नहीं: तसलीमा नसरीन

बता दें कि  पत्रकार आर गोपाल को मंगलवार को गिरफ्तार किया गया है। हवाईअड्डा के अधिकारियों ने बताया कि तमिल साप्ताहिक ‘नक्कीरन’ पत्रिका के संपादक व वरिष्ठ पत्रकार आर. गोपाल को पुलिस ने हवाईअड्डा से अरेस्ट किया है। बता दें कि संपादक को उस दौरान गिरफ्तार किया गया जब वह पुणे जा रहे थे।साप्ताहिक पत्रिका की वेबसाइट ने लिखा है कि राज भवन की शिकायत पर गोपाल को गिरफ्तार किया गया है। यह शिकायत विरूधुनगर स्थित एक निजी कॉलेज की सहायक प्रोफेसर निर्मला देवी से संबंधित एक लेख के संबंध में थी।गौरतलब है कि निर्मला देवी को अधिकारियों की यौन संतुष्टि के लिए कॉलेज की छात्राओं को कथित तौर पर उकसाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

इसे भी पेढ़ेःकथावाचक देवकीनंदन ठाकुर को मिली जान से मारने की धमकी, रिपोर्ट दर्ज

संपादक गोपाल की गिरफ्तारी की वजह पर पुलिस ने कोई बी बत नही की है। पत्रिका के संपादक की गिरफ्तारी के संबंध में राज भवन के अधिकारियों की प्रतिक्रिया का अपडेट अभी नही मिल पाया है।चेन्नई में द्रमुक अध्यक्ष एमके स्टालिन ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि आर. गोपाल (तमिल पत्रिका नक्कीरन के मुख्य संपादक) की गिरफ्तारी सही नहीं है।स्टालिन ने  सवाल उठाते  हुए कहा ,मैं पूछता हूं कि क्यों बीजेपी नेता एच.राजा के अतीत में दिए गए उत्तेजक भाषण के मामले में अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया..? अभी तक एसवीई शेखर क्यों मुक्त है ? स्टालिन ने गोपाल की गिरफ्तार को गलत बताया है।

मैं राज्य सरकार को दोषी ठहराता हूं-एमडीएमके प्रमुख

वहीं एमडीएमके (मरलमाची द्रविड़ मुनेत्र कझगम) प्रमुख वाइको ने कहा कि मैंने उनसे मिलने की अनुमति मांगी लेकिन पुलिस मुझे अनुमति नहीं दे रही है।वाइको ने कहा कि यह गिरफ्तारी स्वतंत्र पत्रकारों की ओर अधिकारियों के खतरनाक दृष्टिकोण को दिखाती है। क्या राज्य में गवर्नर का शासन है? मैं राज्य सरकार को दोषी ठहराता हूं। कमल हासन ने  भी इस प्रकरण  पर कहा कि मीडिया की स्वतंत्रता लोकतंत्र की सच्ची भावना की सुरक्षा का मुख्‍य बिंदु है। उनहोंने कहा कि अब अभिव्‍यक्ति की आजादी कम हो जाती है। जो  इस तरह की कमियों को सुधारने के लिए जरूरी है।

 

 महेश कुमार यादव