रैली को संबोधित करते हुए सिद्धारमैया ने की पीएम मोदी की तारीफ!

कर्नाटक विधानसभा चुनाव होने में अब बस कुछ ही दिन बाकी हैं। उससे पहले सारी राजनीतिक पार्टियां वोटरों को रिझाने के हर भरसक प्रयास कर रहे हैं। हर रोज राज्य में कांग्रेस और बीजेपी की धुआंधार रैलियां जारी हैं। जिनमें दोंनों पार्टियां की तरफ से एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाए जा रहे हैं। मंगलवार को कांग्रेस के कद्दावर नेता और मौजूदा मुख्यमंत्री सिद्धारमैया भरी सभी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ कर बैठे।

 

कर्नाटक सीएम सिद्धारमैया (फाइल फोटो)

 

उन्होंने ऐसा जानबूझकर नहीं, बल्कि गलती से हो गया। दरअसल वह इस दौरान कांग्रेस उम्मीदवार नरेंद्र स्वामी की उपलब्धियां गिना रहे थे, लेकिन इस दौरान उनकी जुबान फिसली औऱ उनकी मुंह से नरेंद्र मोदी का नाम निकल गया।

 

हुआ यूं कि सिद्धारमैया ने अपने भाषण के दौरान कहा, ‘यहां के सभी गांवों में सड़क, पीने के पानी, घर आदि सभी व्यवस्था उपलब्ध है तो इसे संभव कर दिखाया है नरेंद्र मोदी और हमने…।

 

इस बीच पास खड़े स्वामी ने उन्हें टोका और मुख्यमंत्री ने खुद को संभाला। मुख्यमंत्री को इस बात का एहसास हो गया था कि उनके मुंह से गलत नाम निकल गया है तो उन्होंने अपने संबोधन में सुधार करते हुए कहा, ‘सॉरी, सॉरी… नरेंद्र स्वामी… नरेंद्र नाम बेहद खास है।’

 

स्थिति को संभालते हुए उन्होंने आगे कहा, ‘ स्वामी यहां है और मोदी वहां गुजरात में हैं। नरेंद्र मोदी कल्पना है, जबकि नरेंद्र स्वामी हकीकत है।’ मुख्यमंत्री की ओर से हुई इस गफलत के बाद स्थिति संभालने की कोशिश पर वहां मौजूद लोग हंसने लगे। यहां तक खुद मुख्यमंत्री भी मुस्कुराने से नहीं रोक सके।

 

सिद्धारमैया से पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की भी जुबान फिसल चुकी है। कर्नाटक में मार्च महीने में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अमित शाह ने कांग्रेस के सीएम सिद्धारमैया की जगह बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा सरकार को भ्रष्ट बता दिया था।

 

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान शाह सिद्धारमैया सरकार के भ्रष्टाचार को गिना रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा, ‘मैं भ्रष्टाचार को लेकर डिटेल में नहीं जाना चाहता, अभी-अभी सुप्रीम कोर्ट के एक रिटायर्ड जज ने कहा कि भ्रष्टाचार के लिए अगर स्पर्धा कर ली जाए तो येदुरप्पा सरकार को भ्रष्टाचार में नंबर वन का अवॉर्ड देना पड़ेगा।’ यानी अमित शाह वर्तमान मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की आलोचना कर रहे थे और उनकी जुबान से अपने ही नेता बीएस येदुरप्पा का नाम निकल गया।