February 28, 2024 1:20 am
featured राजस्थान

राजस्थान के मुख्यमंत्री की रेस, वसुंधरा का शक्ति प्रदर्शन, महंत बालक नाथ, सीपी जोशी और गजेंद्र शेखावत शीर्ष दावेदारों में शामिल

BJP राजस्थान के मुख्यमंत्री की रेस, वसुंधरा का शक्ति प्रदर्शन, महंत बालक नाथ, सीपी जोशी और गजेंद्र शेखावत शीर्ष दावेदारों में शामिल

राजस्थान में विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा ने बहुमत हासिल कर लिया है। लेकिन अगले मुख्यमंत्री को लेकर बीजेपी में अभी तक मंथन चल रहा है।

यह भी पढ़े

आज 1 बजे आंध्र प्रदेश से टकराएगा साइक्लोन मिचौंग, 110 KMPH की रफ्तार से चलेंगी हवाएं

 

मुख्यमंत्री को लेकर अभी तक कोई चेहरा साफ नहीं हुआ है। लेकिन सूत्रों की माने तो पीएम मोदी और केंद्रीय मंत्री अमित शाह की ओर से मुख्यमंत्री का नाम तय हो चुका है। लेकिन अब विधायक दल की बैठक होना बाकी है। उधर, मुख्यमंत्री की रेस को लेकर बीजेपी में सियासत का पारा चढ़ा हुआ है। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को लेकर सियासत में अटकलें लगाई जा रही है। आखिर वसुंधरा मुख्यमंत्री नहीं है तो, फिर कौन अगला सीएम होगा? वहीं वसुंधरा भी आलाकमान को अपनी ताकत दिखाने में जुट गई है। सोमवार को 47 विधायकों ने वसुंधरा से मुलाकात की है। ऐसे में अटकलें लगाई जा रही है कि वसुंधरा की जोर आजमाइश के बीच बीजेपी हाई कमान के लिए नया सीएम बनाया जाना आसान नहीं होगा। वसुंधरा राजे भी हाई कमान को पूरी टक्कर देती हुई नजर आएंगी।

इसी के साथ वसुंधरा सहित बाबा बालकनाथ, गजेंद्र सिंह शेखावत, दिया कुमारी का नाम सबसे ज्यादा चर्चाओं में बना हुआ है। वहीं राजनीतिक जानकारों का मानना है कि इन सभी नेताओं से ज्यादा अनुभव राजे के पास है और जो अगले लोकसभा चुनाव में पार्टी के काम आ सकता है। पार्टी के इशारे के बाद राजस्थान प्रभारी अरुण सिंह और प्रदेश अध्यक्ष सीपी जोशी जयपुर पहुंच गए हैं। मंगलवार को विधायक दल की बैठक होनी थी। लेकिन चर्चा है कि यह बैठक आगे टल सकती है। उधर, राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने 15वीं विधानसभा भंग करने की अधिसूचना जारी कर दी है।

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को कहीं ना कहीं इस बात का एहसास हो रहा है कि पार्टी हाई कमान इस बार उन्हें मुख्यमंत्री नहीं बनाते हुए कोई नया चेहरा ला रही है। इसके बाद से वसुंधरा सोमवार को सक्रिय हो गई। इस दौरान वसुंधरा राजे के समर्थक करीब 47 विधायक उनसे मिलने उनके आवास पर पहुंचे। हालांकि इसे एक औपचारिक मुलाकात बताया जा रहा है। लेकिन सियासी गलियारों में इस मुलाकात को शक्ति प्रदर्शन से देखकर जोड़ा जा रहा है।

Related posts

भारतीय क्षेत्र में ही बार-बार आते हैं चक्रवाती तूफान! वैज्ञानिकों ने बताया कारण

Shailendra Singh

ऑस्ट्रेलिया के पीएम के साथ दिल्ली की मेट्रो में पीएम मोदी का सफर

Rahul srivastava

कैबिनेट मंत्रियों से खफा हुए योगी, चेतावनी देने के लिए लिखी चिट्ठी

kumari ashu