December 3, 2022 1:11 pm
featured देश

राष्ट्रपति मुर्मू पर कांग्रेस नेता उदित राज का विवादित ट्वीट, भड़की BJP, गरमाई राजनीति

murmu udit 425x240 1 राष्ट्रपति मुर्मू पर कांग्रेस नेता उदित राज का विवादित ट्वीट, भड़की BJP, गरमाई राजनीति

 

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू कुछ दिन पहले गुजरात दौरे पर गई थीं। उस दौरान उन्होंने साबरमती आश्रम पहुंचकर महात्मा गांधी को पुष्पांजलि दी थी।

यह भी पढ़े

दिल्ली एयरपोर्ट पर 28 करोड़ की 7 घड़ियां जब्त, कई घड़ियों में जड़े हैं हीरे

 

उस दौरान राष्ट्रपति ने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा था कि गुजरात में देश का 76 प्रतिशत नमक बनाया जाता है। यह कहा जा सकता है कि सभी देशवासी गुजरात का नमक खाते हैं। बस फिर क्या था । राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के ‘नमक’ वाले बयान पर कांग्रेस नेता उदित राज के ट्वीट से बवाल मच गया है। बीजेपी ने उदित राज की टिप्पणी को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और उनपर और कांग्रेस पर निशाना साधा।

 

यहां देखें ट्वीट

Screenshot 2145 राष्ट्रपति मुर्मू पर कांग्रेस नेता उदित राज का विवादित ट्वीट, भड़की BJP, गरमाई राजनीति

 

Screenshot 2146 राष्ट्रपति मुर्मू पर कांग्रेस नेता उदित राज का विवादित ट्वीट, भड़की BJP, गरमाई राजनीति

 

कांग्रेस नेता उदित राज ने ट्वीट कर कहा था कि द्रौपदी मुर्मू जी जैसा राष्ट्रपति किसी देश को न मिले। चमचागिरी की भी हद्द है। कहती हैं 70% लोग गुजरात का नमक खाते हैं। खुद नमक खाकर जिंदगी जिएं तो पता लगेगा। इसके बाद उदित राज ने एक और ट्वीट किया। उन्होंने कहा कि मेरा बयान द्रोपदी मुर्मू जी के लिए निजी है, कांग्रेस पार्टी का नहीं है। द्रौपदी मुर्मू को उम्मीदवार बनाया और आदिवासी के नाम से वोट मांगा। राष्ट्रपति बनने से क्या वे आदिवासी नही रहीं? देश की राष्ट्रपती हैं तो आदिवासी की प्रतिनिधि भी। रोना आता है जब एससी, एसटी के नाम से पद पर जाते हैं फिर चुप हो जाते हैं।

 

murmu udit 425x240 1 राष्ट्रपति मुर्मू पर कांग्रेस नेता उदित राज का विवादित ट्वीट, भड़की BJP, गरमाई राजनीति

 

बीजेपी ने किया पलटवार

संबित पात्रा ने कहा कि कांग्रेस नेता उदित राज द्वारा राष्ट्रपति मुर्मू के लिए इस्तेमाल किए गए शब्द चिंताजनक, दुर्भाग्यपूर्ण हैं। यह पहली बार नहीं है जब उन्होंने इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल किया है। इससे पहले कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने भी ऐसा ही किया था। यह उनकी आदिवासी विरोधी मानसिकता को दर्शाता है।

 

Related posts

कोरोना की दूसरी लहर के बीच कैसे होगा पठन-पाठन, जानिए क्या है नई गाइडलाइन

Aditya Mishra

Amalaki Ekadashi 2022: आमलकी एकादशी व्रत आज, जानें कैसे मिलेगी भगवान विष्णु की विशेष कृपा

Neetu Rajbhar

कश्मीर में  मंदिरो  में शुरू हुआ निर्माण कार्य,जल्द बहुरेंगे घाटी के मंदिरों की दशा , 

Rozy Ali