मोदी मुक्त नारे के बाद राज ठाकरे के समर्थकों की गुंडागर्दी शुरू, तोड़े होटल और दुकानों के बोर्ड

महाराष्ट्र नव निर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे के ‘मोदी मुक्त’ वाले बयान के बाद मनसे कार्यकर्ताओं की राज्य में गुंडा गर्दी शुरू हो गई है। ठाकरे के समर्थकों ने मुंबई-अहमदाबाद हाईवे पर गुजराती बोर्ड को तोड़ डाला। गुड़ी पाडवा के मौके पर शिवाजी पार्क में आयोजित रैली में राज ठाकरे ने मोदी मुक्त भारत की घोषणा की है।

महाराष्ट्र नव निर्माण सेना प्रमुख एक बार फिर से केंद्र सरकार आड़े हाथों ले लिया है। ठाकरे शिवाजी पार्क में आयोजित एक रैली को संबोधित कर रहे थे। गुड़ी पाडवा के अवसर पर जन सभा को संबोधित करते हुए राज ठाकरे ने मोदी सरकार और महाराष्ट्र की फडणवीस सरकार पर जमकर हल्ला बोला। इस मौके पर ठाकरे ने कहा कि देश नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार के झूठे वादों से ऊब चुका है। हमें ‘मोदी मुक्त भारत’ बनाने के लिए भाजपा नेतृत्व वाली राजग सरकार को सत्ता से हटाना होगा और इसके लिए सभी विपक्षी दलों को एक साथ आना चाहिए।

 

राज ठाकरे ने कहा कि यदि भविष्य में सत्ता परिवर्तन हुआ और नोटबंदी की जांच हुई तो आजादी के बाद का यह देश का सबसे बड़ा घोटाला बनकर सामने आएगा। राज ठाकरे ने कहा कि मोदी सरकार में बोफोर्स से बड़ा भी घोटाला हुआ है। सरकार राफेल विमानों की खरीद में हुए घोटाले को लेकर रहस्यमय ढंग से चुप्पी साधे है। मीडिया में भी इस घोटाले की खबरें नहीं आ रही। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह अखबारों के मालिकों को विज्ञापन बंद करने की धमकी देते हैं। क्या समाचार देना है और क्या नहीं देना, यह सरकार तय कर रही है।

 

उन्होंने विपक्ष का आह्वान किया कि मोदीमुक्त भारत बनाने के लिए सभी एकसाथ आएं। आगामी चुनाव भारत की तीसरी आजादी की लड़ाई है। भारत को पहली आजादी 1947 में मिली। आजादी की दूसरा संघर्ष 1977 में हुआ और अब 2019 के चुनाव में भारत को मोदी से मुक्ति के रूप में तीसरी आजादी की लड़ाई लड़ने के लिए तैयार रहना होगा।

 

राज ठाकरे ने कहा कि आगामी चुनावों को देखते हुए देश में धार्मिक दंगे कराए जा सकते हैं। वहीं, गुजरातियों को निशाना बनाते हुए उन्होंने कहा कि मुंबई-अहमदाबाद हाईवे पर अब भी होटलों और दुकानों पर मराठी में नहीं गुजराती में बोर्ड लगाए गए हैं।

 

इस दौरान ठाकरे ने अभिनेत्री श्री देवी की मौत पर कहा कि वह एक बेहतरीन कलाकार थी लेकिन उन्होंने देश के लिए ऐशा क्या कि उनकी शव कोे तिरंगे में लपेटा गया। उनके अनुसार नीरव मोदी-पंजाब नेश्नल बैंक से मीडिया का ध्यान भटकाने के लिए श्री देवी की मौत की घटना को इतना उठाया गया।