featured देश मनोरंजन

छोटे से गांव की छोरी बनी 2017 की मिस वर्ल्ड, कर रही हैं हार्ट स्पेशलिस्ट का कोर्स

miss world

नई दिल्ली। 14 मई 1997 को हरियाणा के झज्जर में जन्मी मानुषी छिल्लर ने दुनिया की 117 सुंदरियों को पीछे छोड़कर मिस वर्ल्ड 2017 का ताज अपने नाम किया है। फिलहाल मानुषी सोनीपत के मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस सेंकंड ईयर की स्टूडेंट हैं। कोच रीता गंगवानी का कहना है कि अभी मानुषी अपनी पढ़ाई करने पर ध्यान दे रही है। लेकिन अगर उसे कोई अच्छू स्क्रीप्ट मिलेगी तो वो बॉलीवुड का रूख कर सकती है। मानुषी ने चीन के सनाया शहर में शनिवार को हुए मिस वर्ल्ड कॉन्टेस्ट के ग्रैंड फिनाले में खिताब जीता। बता दें कि मानुषी से 17 साल पहले प्रियंका चोपड़ा मिस वर्ल्ड चुनी गई थीं।

miss world
miss world

बता दें कि बीते शनिवार शाम बेटी को ताज मिलने के बाद मानुषी की फैमिली की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। रोहतक में रहने वाली नानी सावित्री सहरावत ने लोगों को मिठाई बांटी और जश्न मनाया। दिल्ली के तीमारपुर इलाके में मानुषी छिल्लर के पड़ोसियों और दोस्तों ने केक काटकर देश को मिली कामयाबी को सेलिब्रेट किया। एक-दूसरे का मुंह मीठा किया और पटाखे फोड़कर डांस भी किया। रीता गंगवानी मिस वर्ल्ड मानुषी चिल्लर की कोच है। उनका कहना है कि मैं इस बात पर गर्व करती हूं कि मानुषी 17 साल बाज मिस वर्ल्ड का ताज लेकर अपने देश वापस आएंगी। जिसका हमें सालों से इंतेजार था। मानुषी मानवता के लिए कुछ करना चाहती है। पीरियड्स के प्रति लोगों में जागरूकता फैल रही है। इसे मिस वर्ल्ड कॉन्टेंस्ट में भी काफी सराहा गया।

वहीं रोहतक में रहने वाली मानुषी की नानी का कहना है कि उसे बचपन से ही सजने सवरने का बहुत शौक था। उसका बचपन और लड़कियों की तरह गुड्डे-गुड़ियों में नहीं बल्कि चुड़ी बिंदी और चुनरियों को सवारने में निकला 3 साल की उम्र से ही उसे नई नई ड्रेस पहनने का शौक हो गया था। मानुषी के पेरेंट्स ने रोहतक के ही पीजीआईएमएस कॉलेज से डॉक्टरी की पढ़ाई पूरी की। बाद में दोनों जीवनसाथी बन गए। अब पिता डॉ. मित्रबसु सेंट्रल गर्वमेंट के डीआरडीओ डिपार्टमेंट में मेडिकल ऑफिसर हैं और मां डॉ. नीलम दिल्ली के गवर्नमेंट हॉस्पिटल में डॉक्टर हैं। फिलहाल डॉ. मित्रबसु और नीलम छिल्लर मानुषी के साथ चीन गए हैं

Related posts

पाकिस्तानी कलाकारों को भारतीयों पर हमले की निंदा करनी चाहिए : अनुपम

shipra saxena

आंखों की रोशनी कम है तो अपनाए यह तरीके,नहीं लगाना पड़ेगा चश्मा !

pratiyush chaubey

उत्तराखंड में कोरोना के 14 नए केस आए सामने, एक शख्स की क्वारंटाइन सेंटर में मौत

Rani Naqvi