featured यूपी

बरेली: SRMS मेडिकल कॉलेज में चार दिवसीय कॉन्‍फ्रेंस वर्कशॉप, ICU समेत इन विषयों पर प्रशिक्षण

बरेली: SRMS मेडिकल कॉलेज में चार दिवसीय कॉन्‍फ्रेंस वर्कशॉप, ICU समेत इन विषयों पर प्रशिक्षण

बरेली: जिले में श्री राम मूर्ति स्मारक इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में चार दिवसीय कॉन्‍फ्रेंस कम वर्कशाप ‘10th UP-UK ISCCM State Chapter & SRMS Pulmo Crit-2’ का आयोजन किया गया।

इस वर्कशॉप का आयोजन ISCCM बरेली चैप्टर के सहयोग से पल्मोनरी एवं क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग द्वारा किया गया। शुक्रवार को कॉन्‍फ्रेंस और वर्कशाप का उद्घाटन SRMS मेडिकल कॉलेज के डायरेक्टर एडमिनिस्ट्रेशन आदित्य मूर्ति, पद्मभूषण से सम्मानित डॉ. बीके राव, एम्स भटिंडा के डायरेक्टर डॉ. डीके सिंह, SRMS के प्रिंसिपल डॉ. एसबी गुप्ता, कार्यक्रम संचालन समिति के सेक्रेटरी और SRMS के रेस्पिरेटरी एंड क्रिटिकल केयर विभाग के प्रमुख डॉ. ललित सिंह ने किया।

अतिथियों को भेंट किया गया स्‍मृति चिह्न

इस मौके पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ. बीके राव को SRMS ट्रस्ट की ओर से श्री राम मूर्ति ओरिएशन अवार्ड प्रदान किया गया, जबकि विशिष्ट अतिथि डॉ. डीके सिंह को लाइफ टाइम सम्मान दिया गया। SRMS ट्रस्ट देव मूर्ति की अनुपस्थिति में स्मृति चिह्न और अंगवस्त्र आदित्य मूर्ति ने भेंट किया। स्टेट चैप्टर कॉन्‍फ्रेंस कम वर्कशॉप का आयोजन SRMS मेडिकल कॉलेज के रेस्पिरेटरी एंड क्रिटिकल केयर विभाग की ओर से किया गया।

 

srms medical college बरेली: SRMS मेडिकल कॉलेज में चार दिवसीय कॉन्‍फ्रेंस वर्कशॉप, ICU समेत इन विषयों पर प्रशिक्षण

 

इस अवसर पर आदित्य मूर्ति ने कहा कि, कोविड महामारी ने सभी लोगों को वेंटिलेटर और आइसीयू जैसे शब्दों से परिचित करा दिया है। इसी की बदौलत पूरी दुनिया ने कोविड के गंभीर मरीजों की जान बचाई। हमने भी वेंटिलेटर और आइसीयू के जरिये ही यहां भर्ती होने वाले मरीजों का इलाज किया। उन्होंने इसके लिए क्रिटिकल केयर विभाग, नर्सिंग और पैरामेडिकल सहित सभी के योगदान को भी सराहा।

डॉ. बीके राव ने स्वतंत्रता सेनानी राम मूर्ति को गांधीवादी बताते हुए उनकी तुलना राष्ट्रपिता से की। उन्होंने कहा कि, उनकी दुआ और कामना है कि एसआरएमएस परिवार आगे बढ़ रहा है और बुलंदियों को हासिल कर रहा है। उद्घाटन सत्र को डॉ. डीके सिंह ने भी संबोधित किया।

कोरोना वायरस पर प्रेजेंटेशन

शुक्रवार (18 मार्च) से शुरू हुए ‘10th UP-UK ISCCM State Chapter & SRMS Pulmo Crit-2’ के दूसरे दिन शनिवार को कोविड, एंटीबायोटिक्स और एंटीफंगल विषयों पर तीन व्याख्यान सत्र आयोजित किए गए। कोविड विषय के पहले सत्र में चेयरपर्सन के रूप में डॉ. नवनीत अग्रवाल, डॉ. सुदीप सरन और डॉ. प्रदीप साही उपस्थित हुए और जयपुर से आए डॉ. नरेंद्र रूंगटा ने कोविड के ‘आज और कल’ पर अपना प्रेजेंटेशन सबके सामने रखा।

वहीं, दूसरे सत्र में एंटीबायोटिक्स के बारे में जानकारी दी गई। इस सत्र के चेयरपर्सन डॉ. विमल भारद्वाज, डॉ. अनुराग अग्रवाल, डॉ. राजेश अग्रवकाल और डॉ. सोमेश मेहरोत्रा रहे। एंटीबायोटिक्स रेजिस्टेंस पर पहला व्याख्यान मैक्स अस्पताल नई दिल्ली से आए डॉ. वाईपी सिंह ने दिया, जबकि जीबी पंत नई दिल्ली से आए डॉ. अनिर्वान चौधरी ने एंटीबायोटिक्स के भविष्य पर बात की।

एंटीफंगल विष पर आधारित रहा तीसरा सत्र

स्टेट चैप्टर के दूसरे दिन का तीसरा और अंतिम सत्र एंटीफंगल विषय को समर्पित रहा। इसमें डॉ. राहुल गोयल, डॉ. रामपाल सिंह, डॉ. आरके भास्कर और डॉ. रजत अग्रवाल चेयरपर्सन के रूप में शामिल हुए। इस सत्र में डॉ. राजेश पांडेय, डॉ. प्रदीप रंगप्पा ने अपना प्रेजेंटेशन दिया।

एसआरएमएस मेडिकल कॉलेज के रेस्पिरेटरी एंड क्रिटिकल केयर विभाग के प्रमुख डॉ. ललित सिंह ने कहा कि, कॉन्‍फ्रेंस का उद्देश्य आइसीयू में कार्य करने वाले गहन रोग चिकित्सकों को प्रशिक्षित करना है, क्योंकि कोरोना महामारी के दौरान आइसीयू में चिकित्सकों को रोजाना नई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। जिस कारण नवीनतम तकनीकों का ज्ञान होना आवश्यक हो गया है। एसआरएमएस मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. एसबी गुप्ता ने संस्थान की उपलब्धियों की जानकारी दी।

वहीं, तीसरे और चौथे दिन की कॉन्‍फ्रेंस रामनगर में आयोजित की जाएगी। कॉन्‍फ्रेंस में 250 से अधिक विभिन्न विभागों जैसे पल्मोनरी एवं क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग विशेषज्ञ, मेडिसिन रोग विशेषज्ञ, न्यूरो फिजिशियन, निश्चेतना रोग, हृदय रोग विशेषज्ञ व नैफ्रो रोग विशेषज्ञ डॉक्टर शामिल हुए।

Related posts

जेट एयरवेज के बंद होने के बाद कर्मचारियों पर आर्थिक संकट, ट्विटर के जरिए नौकरी का ऑफर

bharatkhabar

भरतपुर में पहली सरसों के तेल की जांच करने वाली लैब, मंत्री सुभाष गर्ग ने किया उद्घाटन

Saurabh

प्रयागराज: इलाहाबाद विवि में लाइब्रेरी खोलने के लिए चलाया गया हस्ताक्षर अभियान

Shailendra Singh