होने वाले थे फेरे… फिर अचानक कुछ ऐसा होने से दुल्हन ने शादी से किया इनकार!

मेरठ। आगे बाराती पीछे बेंड बाजा आए दूल्हे राजा गौरी खोल दरवाजा। जी हां मेरठ में कुछ इस तरह देखने को मिला फेरों से पहले ही दुल्हे के खम्बे से टकराने पर पोल खुल गई। दुल्हा अंधा निकला, जिसकी धोखाधड़ी से शादी की जा रही थी। भेद खुलने पर दुल्हन ने शादी करने से इंकार कर दिया। दुल्हन के बगावती तेवर होते ही बारात को बंधक बना लिया गया। दुल्हन के परिजनों ने विवाह समारोह में साढ़े चार लाख खर्च होना बताया है।

दोनों पक्षों के बीच में देर रात्रि तक वार्ता चलती रही, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। फिलहाल दुल्हन के परिजनों में आक्रोश है। और दूल्हा व बारात को बंधक बनाया हुआ है। सुचना मिलते ही मौके पर पहुँची पुलिस ने तहरीर के आधार पर ही कार्यवाई की बात कह रही है। जैसे ही थाने में तहरीर दी जाती है उसके आधार पर ही पुलिस आगे की कार्यवाई करेगी।

आपको बता दें की मामला टीपीनगर क्षेत्र के अम्बेडकर नगर नई बस्ती का है। यहां रहने वाले रतनलाल ने अपनी पुत्री रूबी का रिश्ता खरखौदा क्षेत्र के गांव आढ़ निवासी राजवीर के पुत्र संजय से किया था। वही ढोल ताशो के साथ संजय बारात लेकर आया था। दुल्हन के परिजनों ने बताया की दुल्हे के रूप में आए संजय ने आंखों पर काला चश्मा लगा रखा था और उसकी गतिविधियां भी संदिग्ध थी। संजय को उसके दोस्त लेकर चल रहे थे और ऐसा लग रहा था जैसे वे उसे रास्ता बता रहे है। इसको लेकर गांव और दुल्हन के रिश्तेदारों में सुगबुगाहट होनी शुरू हो गई।

बारात आने के बाद जयमाला के साथ-साथ अन्य रस्मे भी हुई। लेकिन दुल्हे की आंखों से काला चश्मा नहीं उतरा। दुल्हन के परिजनों को शक होने लगा लेकिन कोई कुछ नहीं बोला। इसी बीच फेरों का समय आ गया लेकिन इससे पूर्व दुल्हा खम्बे से टकरा गया। दूल्हे के खम्बे से टकराने पर लोगों ने उसको पकड़ लिया। काला चश्मा उतरते ही दुल्हे ने कह दिया कि वह अंधा है। आवाज दुल्हन के कानों तक पहुंची और उसने शादी से इंकार कर दिया। बस फिर बारात को बंधक बना लिया गया। दुल्हन के परिजनों ने आरोप लगाया दूल्हे वालों ने धोखाधड़ी की दिखाया कोई और दुल्हा बनकर आया कोई और। फिलहाल काफी देर तक जमकर हंगामा हुआ और दुल्हन वाले शादी में खर्च हुए साढ़े चार लाख रुपयों की मांग पर अड़े थे।

 -राहुल गुप्ता