September 22, 2021 4:48 pm
featured मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश खबर: बसपा और सपा के विधायक राजेश शुक्ला ने रिश्वत की पेशकश और अगवा करने जैसे कांग्रेस के नेताओं के आरोपों को किया सिरे से खारिज

दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश खबर: बसपा और सपा के विधायक राजेश शुक्ला ने रिश्वत की पेशकश और अगवा करने जैसे कांग्रेस के नेताओं के आरोपों को किया सिरे से खारिज 

भोपाल: मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार का संकट टलता तो नजर आ रहा है लेकिन नाटक पूरी तरह से खत्म हो गया हो ऐसा भी नहीं लगता. ताजा घटनाक्रम में बसपा से निलंबित विधायक रामबाई, संजीव सिंह कुशवाहा और समाजवादी पार्टी के विधायक राजेश शुक्ला ने रिश्वत की पेशकश और अगवा करने जैसे कांग्रेस के नेताओं के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया. दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया था कि बीजेपी विधायकों की खरीद-फरोख्त में जुटी है, सरकार को गिराने के लिए उन्हें न सिर्फ बंधक बनाया गया है, बल्कि उनके साथ मारपीट भी हुई है.

बहुजन समाज पार्टी के विधायक संजीव सिंह कुशवाहा ने कहा ”बीजेपी की ओर से हमें किसी तरह का प्रलोभन नहीं दिया गया, सब बातें गलत हैं. मायावती जी ने कांग्रेस सरकार का समर्थन करने के लिए कहा था, इसी बात पर हम कायम हैं. हमें कुछ नहीं चाहिए. अगर हमें सरकार के साथ नहीं रहना होता तो हम पहले ही उन्हें छोड़ देते. मंत्री बस अपने नंबर बढ़वाने के लिए ऐसे बयान दे रहे हैं.”

बसपा विधायक रामबाई ने कहा कि ”मेरा दिल्ली जाने का कार्यक्रम पहले से ही तय था. मेरी बेटी ने फ्लाइट का टिकट बुक कराया था. दिग्विजय का भूपेंद्र सिंह के साथ जाने का आरोप गलत है. किसी ने मुझे हाथ तक नहीं लगाया, और कहा जा रहा है कि मारपीट की गई. ना बीजेपी और ना ही कांग्रेस में इतनी हिम्मत है कि मुझे हाथ लगा सके.  मैं प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने के समय से मुख्यमंत्री के साथ हूं और आगे भी मेरा समर्थन उन्हीं को रहेगा किसी ने मुझे खरीदने की कोशिश नहीं की.”

इन नेताओं ने कैबिनेट मंत्री प्रदीप जायसवाल पर भी निशाना साधा सपा विधायक राजेश शुक्ला ने कहा कि ”जहाज में सबसे ज्यादा चूहे रहते हैं, सबसे ज्यादा मजे भी चूहे लेते हैं और जब जहाज डूबने लगता है तो सबसे पहले भाग जाते हैं. कमलनाथ जी से कहना चाहता हूं कि ऐसे चूहों को चिन्हित करें और लात मारकर बाहर करें.”कांग्रेस सरकार में खनिज मंत्री प्रदीप जायसवाल ने कहा था कि प्रदेश में जब तक कमलनाथ सरकार है, तब तक वह उनके साथ हैं. उसके बाद यदि कोई अन्य सरकार बनती है तो वे क्षेत्र की जनता के विकास के लिए सरकार के साथ रहेंगे. सरकार किसी की बने, वे उसे समर्थन देंगे. जायसवाल बालाघाट जिले की वारासिवनी विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय विधायक के रूप में चुनाव जीते थे और कांग्रेस सरकार को समर्थन दे रहे हैं.

तीनों नेताओं ने ये भी कहा कि हो सकता है कि राज्यसभा चुनावों के मद्देनजर कांग्रेस के नेता ये बातें कह रहे हों. रामबाई ने कहा जो बहनजी (बसपा सुप्रीमो मायावती) का आदेश होगा, उसका पालन करूंगी. वहीं संजीव कुशवाहा ने एक सीट बसपा को देने की मांग कर दी.

Related posts

केजरीवाल सरकार ने किया स्विच दिल्ली कैंपेन का ऐलान, इलेक्ट्रिक कारों पर मिलेगी 3 लाख तक की छूट

Aman Sharma

अपने बयान पर कायम हैं सोनू निगम, कई बॉलीवुड सितारों ने किया समर्थन

kumari ashu

राष्ट्र के नाम पीएम का संबोधन, कहा- लॉकडाउन अंतिम विकल्प, मजदूर न करें पलायन

Saurabh