सड़कों पर अभ्यर्थी, रोते-बिलखते मांग रहे न्याय
लखनऊ में 69000 सहायक शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थियों का प्रदर्शन

लखनऊ: प्रदेश का युवा इन दिनों सड़कों पर संघर्ष करता हुआ दिख रहा है। कभी SCERT कार्यालय, कभी भाजपा कार्यालय, कभी सीएम आवास तो कभी शिक्षा मंत्री का आवास, इन सभी जगहों पर प्रदेश का युवा नौकरी मांगने के लिए धरना दे रहा है, प्रदर्शन कर रहा है, लाठी खा रहा है और चोटिल हो रहा है। साथ ही ये बताने की कोशिश कर रहा है कि बेरोज़गारी के इस दौर में उसके लिए नौकरी कितनी महत्वपूर्ण है। हम बात कर रहे 69000 सहायक शिक्षक अभ्यर्थियों की।

सुबह सीएम आवास का घेराव

मंगलवार की सुबह राजधानी की सड़कें फिर अभ्यर्थियों से भर गईं और सीएम आवास के बाहर शिक्षक अभ्यर्थी पहुंच गए। दरअसल, ये वही अभ्यर्थी हैं जो 69000 शिक्षक भर्ती में आरक्षण घोटाले की बात कर रहे हैं। सीएम आवास के बाहर पहुंचे अभ्यर्थी सड़क पर लेट कर मुख्यमंत्री से न्याय की गुहार लगाने लग गए।

सीएम आवास और भाजपा कार्यालय पर लगा रहे न्याय की गुहार

सीएम आवास के बाहर सड़क पर लेटकर न्याय की गुहार लगा रहे अभ्यर्थी

अभ्यर्थियों में महिलाएं भी शामिल थीं जिनका चीख-चीख कर बुरा हाल था। उनके गले से आवाज़ नहीं निकल रही थी। सभी अभ्यर्थियों की आंखों में आंसू थे और सभी निराशा से गुजर रहे थे। मौके पर पहुंची पुलिस ने उन्हें जबरन गाड़ियों में बैठा कर ईको गार्डन पहुंचाया।

भाजपा कार्यालय के गेट पर अभ्यर्थियों का धरना

अभी पुलिस ने सांस ही ली थी की अचानक आरक्षण घोटाले की बात करने वाले अभ्यर्थियों की एक टुकड़ी भाजपा मुख्यालय पर पहुंच गई और देखते ही देखते मुख्यालय के गेट नंबर दो पर धरना देना शुरू कर दिया। एक बार फिर पुलिस प्रशासन वहां पहुंचा और अभ्यर्थियों को गाड़ियों में बैठाने की जद्दोजेहद शुरू हुई।

सीएम आवास और भाजपा कार्यालय पर लगा रहे न्याय की गुहार

गमछे से गला घोटने की कोशिश करता अभ्यर्थी

अभ्यर्थियों और पुलिस के बीच खींचतान भी हुई जिसमें एक महिला अभ्यर्थी का हाथ टूट गया। दर्द से बिलखती चीखती पीड़ित महिला का रो-रो कर बुरा हाल था। उसकी हालत देखकर उसके साथियों ने ऑटो में बैठाकर उसे अस्पताल पहुंचाया। इन्हीं सब के बीच एक अभ्यर्थी ने गेट पर रखे गमछे से खुद का गला घोटने की कोशिश भी की। हालांकि, साथियों द्वारा समझाने पर उसने इस प्रयास को खत्म कर दिया।

सीएम आवास और भाजपा कार्यालय पर लगा रहे न्याय की गुहार

पुलिस से खींचतान में चोटिल हुई महिला अभ्यर्थी, टूटी हाथ की हड्डी

बीते दिन SCERT कार्यलय पर लगा था जमावड़ा

वहीं सोमवार को आरक्षण घोटाले का आरोप लगाने वाले अभ्यर्थियों का जमावड़ा एक बार फिर SCERT कार्यालय पर एकत्रित हुआ था। इस दौरान अभ्यर्थियों ने न्याय के लिए नारेबाजी भी की थी। ओबीसी और एससी वर्ग के अभ्यर्थियों पर बीते दिन पुलिस द्वारा बल प्रयोग भी किया गया था जिसमें कई अभ्यर्थी बुरी तरह घायल हुए थे। घायल अभ्यर्थियों से मिलने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू पहुंचे थे और उन्होंने कहा था कि आगामी विधानसभा चुनाव में यही अभ्यर्थी भारतीय जनता पार्टी को उखाड़ फेकेंगे।

अपने हक़ ले लिए लड़ रहे नौजवान: सपा एमएलसी

वहीं इन अभ्यर्थियों से मिलने समाजवादी पार्टी के एमएलसी उदय वीर सिंह भी गए थे। उन्होंने कहा था, ‘अपना हक, अपने रोज़गार के लिए बहुत दिनों से ये नौजवान लड़ रहे हैं। सरकार इनपर अत्याचार और इनका उत्पीड़न कर रही है। इस सरकार में योग्यता साबित करने वालों को बेरहमी से पीटा जा रहा है। योगी सरकार राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग की रिपोर्ट को नहीं मान रही है, तो इस आयोग को बनाया ही क्यों गया है। समाजवादी पार्टी इन अभ्यर्थियों के हक के लिए लड़ेगी।’

लखनऊ: मृत चिकित्सक को मिली तैनाती, बनाया गया आजमगढ़ का CMS

Previous article

69000 सहायक शिक्षक भर्ती में आरक्षण घोटाले को है भाजपा की संस्थागत सहमति: मनोज यादव

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured