featured देश

मानसून सत्र से पहले किसान संयुक्त मोर्चा ने बनाई रणनीति, संसद घेरने की तैयारी

kisan मानसून सत्र से पहले किसान संयुक्त मोर्चा ने बनाई रणनीति, संसद घेरने की तैयारी

नई दिल्ली: कृषि कानून के खिलाफ किसानों का विरोध लगातार जारी है। आंदोलन के 6 महीने हो चुके हैं लेकिन किसान अपनी बात पर अड़े हुए हैं। अब किसान केंद्र सरकार पर दबाव बनने मानसूत्र सत्र के दौरान बड़े विरोध प्रदर्शन के तैयारी में हैं। किसान संगठनों का जत्था मानसून सत्र के दौरान रोजाना संसद के नजदीक प्रदर्शन करेगा। इसके साथ ही किसान मोर्चा विपक्षी दलों को चिट्ठी लिखकर संसद में कृषि कानूनों के खिलाफ आवाज उठाने की मांग भी करेगा। संसद का मानसून सत्र 19 जुलाई से शुरू हो रहा है।

दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि 17 जुलाई को मोर्चा की तरफ से विपक्षी दलों को “चेतावनी पत्र” लिखा जाएगा, जिसके जरिए विपक्षी सांसदों से मांग की जाएगी कि संसद में कृषि कानूनों के खिलाफ आवाज उठाएं और सरकार को जवाब देने को मजबूर करें। किसानों के दिल्ली कूच को लेकर राजेवाल ने बड़ा एलान करते हुए कहा कि 22 जुलाई से मानसून सत्र के समापन तक हर रोज संसद भवन के करीब कृषि कानूनों के विरोध में किसान प्रदर्शन करेंगे।

संयुक्त किसान मोर्चा से जुड़े किसान नेता दीप खत्री ने एबीपी न्यूज को बताया कि संसद के पास प्रदर्शन करने के लिए शांतिपूर्ण तरीके से हर दिन एक संगठन से पांच लोग यानी करीब 500 किसान बस में बैठ कर जाएंगे। यह सिलसिला सत्र की समाप्ति तक चलता रहेगा।

इसके अलावा पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतों में हो रही लगातार बढ़ोतरी के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा 8 जुलाई को प्रदर्शन करेगा। सुबह 10 से 12 बजे तक किसान संगठन सड़क किनारे प्रदर्शन करेंगे।

Related posts

रामजन्मभूमि पर भव्य राममंदिर बने:  स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज महामंडलेश्वर हरिद्वार

Rani Naqvi

पंजाब में कैबिनेट विस्तार, रजिया सुल्ताना-अरुण चौधरी में हुई विभागों की अदला-बदली

lucknow bureua

CBDT की आलोचना करते हुए ममता ने कहा, दुर्गा पूजा समिति को क्यों नहीं भेजा नोटिश

bharatkhabar