Breaking News featured देश बिहार

कन्हैया कुमार आज करेंगे नामांकन, देखें क्या है उनका प्लान, कितने लोग जुटेंगे उनके साथ

kanhaiya kumar कन्हैया कुमार आज करेंगे नामांकन, देखें क्या है उनका प्लान, कितने लोग जुटेंगे उनके साथ

पटना: लोकसभा चुनाव 2019 में ‘हॉट सीट’ बनी बेगूसराय पर सबकी नजरें हैं। पहली बार चुनावी अखाड़े में अपनी किस्मत आजमाने आए जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के बेगूसराय सीट से लोकसभा चुनाव के उम्मीवार कन्हैया कुमार आज यानी मंगलवार (9 अप्रैल) को अपना नामांकन दाखिल करेंगे। बता दें कि इस सीट पर कन्हैया कुमार के सामने बीजेपी की ओर से केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह हैं तो राजद महागठबंधन की तरफ से तनवीर हसन। बेगूसराय में मुकाबला त्रिकोणीय है, क्योंकि कन्हैया कुमार का मुकाबला सिर्फ गिरिराज सिंह ही नहीं, बल्कि महागठबंधन के राजद उम्मीदवार डॉ तनवीर हसन से भी है। बता दें कि इस सीट पर चौथे चरण में 29 अप्रैल को मतदान होगा।
नामांकन भरने के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कन्हैया कुमार ने फेसबुक के जरिये इसमें शामिल होने के लिए लोगों से अपील की। कन्हैया कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर कार्यक्रम का ब्यौरा प्रस्तुत किया और लिखा- ‘साथियों, नौ अप्रैल, 2019 को मुझे बेगूसराय में लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन करना है। यह चुनाव मैं अकेले नहीं लड़ रहा, बल्कि वे सभी मेरे साथ उम्मीदवार के तौर पर खड़े हैं जो समाज की सबसे पिछली कतार में खड़े लोगों के अधिकारों के साथ संविधान को बचाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।
ताकत कितनी भी बड़ी हो, एकजुटता के उस जज़्बे के सामने छोटी पड़ ही जाती है जो आपकी हर बात में झलकता है। हमेशा की तरह इस बार भी मुझे पक्का यकीन है कि कल मुझे आपका प्यार और समर्थन ज़रूर मिलेगा। उम्मीद है जो साथी बेगूसराय में हैं वे समय निकालकर इस मौके पर मेरे साथ ज़रूर मौजूद रहेंगे।’ सूत्रों की मानें तो कन्हैया कुमार के नामांकन में कई बड़े नाम शामिल हो सकते हैं। बता दें कि इससे पहले बेगूसराय लोकसभा सीट से एनडीए की ओर से बीजेपी नेता गिरिराज सिंह ने नामांकन दाखिल कर दिया है। इसके अलावा, सोमवार को तनवीर हसन ने भी अपना नामांकन भरा। बता दें कि इस सीट पर चौथे चरण में 29 अप्रैल को मतदान होगा। गिरिराज सिंह नवादा से चुनाव लड़ने की जिद कर रहे थे, लेकिन राजग सहयोगियों के बीच सीट बंटवारे में यह सीट लोजपा के खेमे में जाने से उन्हें बेगूसराय से लड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा।
2014 में भाजपा के भोला सिंह ने तनवीर हसन को 58 हजार से ज्यादा मतों से शिकस्त देकर सीट पर कब्जा जमाया था। भोला सिंह पूर्व भाकपा नेता थे, जो भाजपा में शामिल हो गए थे।34।31 फीसदी वोट हिस्सेदारी के साथ हसन को करीब 370,000 वोट मिले थे, जबकि भोला सिंह को 39।72 फीसदी वोट हिस्सेदारी के साथ 428,000 वोट हासिल हुए थे। भाकपा के राजेंद्र प्रसाद सिंह को 17।87 फीसदी वोटों के साथ करीब 200,000 वोट मिले थे।
अनुमान के मुताबिक, बेगूसराय के 19 लाख मतदाताओं में भूमिहार मतदाता करीब 19 फीसदी, 15 फीसदी मुस्लिम, 12 फीसदी यादव और सात फीसदी कुर्मी हैं। भूमिहार वोट यहां की मुख्य कड़ी हैं और इस बात का सबूत है कि पिछले 16 लोकसभा चुनावों में से कम से कम 11 में नौ बार भूमिहार सांसद बने हैं।2009 में अंतिम परिसीमन से पहले बेगूसराय जिले में दो संसदीय सीटें बेगूसराय और बलिया सीट थीं। तब उन दोनों को मिलाकर बेगूसराय कर दिया गया और बलिया सीट खत्म हो गई। बेगूसराय जिले की सात विधानसभा सीटों में से पांच बलिया में आती हैं।

Related posts

सूटकेस में मिला युवती का शव, इलाके में मचा हड़कम्प

piyush shukla

2 अक्टूबर को रिटायरमेंट होने से पहले CJI दीपक मिश्रा ने सुनाए कुछ अहम फैसले

mahesh yadav

कारोबारी सत्र में भारतीय शेयर बाजार बढ़त के साथ बंद

Rani Naqvi