featured दुनिया

भारत के बाद जापान से पंगा लेना चीन को पड़ा भारी, जापान ने चीन को उल्टे पैर दौड़ाया…

chaina 1 1 भारत के बाद जापान से पंगा लेना चीन को पड़ा भारी, जापान ने चीन को उल्टे पैर दौड़ाया...

पूरी दुनिया को कोरोना में फंसाकर पड़ोसी मुल्कों पर दबाब बना रहे चीन को जापान ने समुनद्र में मुंहतोड़ जवाब दिया है। जिसके बाद चीन बुरी तरह से तिमलिया गया है। चीन को लगता है कि, वो अपनी मनमानी करके जो चाहं कर लेगा। लेकिन वो अपनी इसी सोच के चलते अपने ही इलाके में बुरी तरह के फंस गया है।जापानी युद्धपोत कागा ने दक्षिणी जापान में ओकिनावा द्वीप के पास 24 समुद्री मील के भीतर एक चीनी पनडुब्बी का पता लगाया। जिसके बाद हरकत में आई जापानी नौसेना ने अपने पेट्रोलिंग एयरक्राफ्ट की मदद से चीनी पनडुब्बी को अपने जलक्षेत्र से बाहर खदेड़ दिया। इससे पहले साल 2018 में भी जापान ने चीन के साथ कुछ ऐसा ही किया था।

chaina 3 भारत के बाद जापान से पंगा लेना चीन को पड़ा भारी, जापान ने चीन को उल्टे पैर दौड़ाया...
आपको बता दें, चीन और जापान में पूर्वी चीन सागर में स्थित द्वीपों को लेकर आपस में विवाद है। दोनों देश इन निर्जन द्वीपों पर अपना दावा करते हैं। जिन्हें जापान में सेनकाकु और चीन में डियाओस के नाम से जाना जाता है। इन द्वीपों का प्रशासन 1972 से जापान के हाथों में है। वहीं, चीन का दावा है कि ये द्वीप उसके अधिकार क्षेत्र में आते हैं और जापान को अपना दावा छोड़ देना चाहिए। इतना ही नहीं चीन की कम्यूनिस्ट पार्टी तो इसपर कब्जे के लिए सैन्य कार्रवाई तक की धमकी दे चुकी है।

लेकिन उसका जापान हर बार मुंह तोड़ जवाब देता है। तो वहीं दूसरी तरफ अमेरिका ने चीन को बुरी तरह से घधेर लिया है। भारत और जापान से चीन के तनाव के बीच अमेरिका ने पहली बार अपने 11 न्यूक्लियर कैरियर स्ट्राइक ग्रुप में से 3 को एक साथ प्रशांत महासागर में तैनात किया है। माना जा रहा है कि कोरोना वायरस और साउथ चाइना सी में चीन के बढ़ते दखल को रोकने के लिए अमेरिका ने यह तैनाती की है। इतना ही नहीं, हाल के दिनों में चीन ने भी आक्रामकता दिखाते हुए साउथ चाइना सी के ऊपर अपनी टोही उड़ानों को तेज कर दिया है। वहीं, ताइवान को भी चीन ने सीधे तौर पर चेतावनी दी है। इस तरह चीन चारों तरफ से घिरा हुआ नजर आ रहा है।

https://www.bharatkhabar.com/us-president-donald-trump-suspended-h1-b-visa/
लेकिन फिर भी वो अपनी हरकतों से बाज आने का नाम नहीं ले रहा है। चीन जानता है कि, अगर इस दौरान उसने किसी भी देश पर हमला किया तो चीन को सबसे ज्यादा किमत चुकानी पड़ेगी। इसलिए वो सिर्फ धमकियां देकर माहौल बनाने की कोशश कर रहा है।

Related posts

आगामी चुनाव को लेकर शिवराज का फैसला, मंत्रिमंडल में किया विस्तार

Breaking News

भारतीय इतिहास में पहली बार पेट्रोल से मंहगा हुआ डीजल, जाने अपने शहर का रेट

Rani Naqvi

मोदी के नेतृत्व में सर्वश्रेष्ठ देंगे नए मंत्री : शाह

bharatkhabar