featured Sputnik News - Hindi-Russia दुनिया देश भारत खबर विशेष

जयशंकर के अमेरिका को करारे जवाब, रूस हो गया मुरीद, जमकर की तारीफ

s jaishankar 3 जयशंकर के अमेरिका को करारे जवाब, रूस हो गया मुरीद, जमकर की तारीफ

रूसी विदेश मंत्री Sergey Lavrov ने एस जयशंकर की तारीफ की है। उन्होंने जयशंकर को सच्चा देशभक्त बता दिया है।

 

यह भी पढ़े

83 साल की उम्र में मशहूर निर्देशक टी रामा राव का निधन, कई फ़िल्मी हस्तियों ने शोक किया व्यक्त

 

वे उन्हें एक सधा हुआ राजनयिक भी मानते हैं। रूस और यूक्रेन के बीच जारी भीषण युद्ध थमने का नाम नहीं ले रहा है। हर बीतते दिन के साथ जमीन पर स्थिति बेकाबू होती जा रही है।

 

भारत-रूस संबंधों पर बोले लावरोव

बातचीत के दौरान रूसी विदेश मंत्री ने कई मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की है। इसके अलावा उन्होंने भारत के विदेश मंत्री एस जयंशकर को एक सच्चा देशभक्त बता दिया है। मीडिया से बात करते हुए Sergey Lavrov ने कहा है कि जयशंकर तो एक सधे हुए राजनयिक हैं।मैं उन्हें सच्चा देशभक्त मानता हूं। उन्होंने जब कहा था कि भारत अपनी जरूरतों, विकास को ध्यान में रखते हुए कोई फैसला लेगा। ये बात हर देश नहीं कह सकता है।

OIP 1 जयशंकर के अमेरिका को करारे जवाब, रूस हो गया मुरीद, जमकर की तारीफ

जयशंकर अंदाज रूसी विदेश मंत्री को क्यों भाया

बता दें कि एस जयशंकर द्वारा ये बयान तब दिया गया था जब अमेरिका जैसे देश भारत पर रूस से दूरी बनाने का दवाब बना रहे थे। ये देश भारत को रूस से आयात कम करने को भी कह रहे थे। ऐसे में जयशंकर का वो अंदाज ही रूसी विदेश मंत्री को भा गया है और वे अब भारत को अपना एक करीबी सहयोगी बता रहे हैं। इस बारे में वे कहते हैं कि खाद्य सुरक्षा और डिफेंस के मामले में हम पश्चिमी देशों पर निर्भर नहीं रह सकते हैं। हम हर उस देश से सहयोग के लिए तैयार हैं । जो यूएन चार्टर का उल्लंघन नहीं करते हैं। भारत भी उन्हीं देशों में आता है।

भारत के साथ विशेषाधिकार प्राप्त रणनीतिक साझेदारी

अब रूस, भारत को अपना सिर्फ एक साझेदार नहीं मानता है, बल्कि अपने सबसे पुराने दोस्तों में से एक मानता है। जब मीडिया ने Sergey Lavrov से भारत संग रिश्तों पर बात की, तो उन्होंने खुलकर कहा कि एक खास संबंध है। वे बोलते हैं कि भारत तो हमारा बहुत पुराना दोस्त है।

S. Jaishankar A जयशंकर के अमेरिका को करारे जवाब, रूस हो गया मुरीद, जमकर की तारीफ

द्विपक्षीय संबंध का अनूठा अंदाज

20 साल पहले भारत ने कहा था कि हम इस दोस्ती को ‘Privileged Strategic Partnership’ क्यों नहीं कहते हैं. फिर बाद में भारत कहने लगा कि इस रिश्ते को तो ‘Especially Privileged Strategic Partnership कहना चाहिए। ये किसी भी द्विपक्षीय संबंध का अनूठा अंदाज है। रूसी विदेश मंत्री ने इस बात का भी जिक्र किया कि रूस द्वारा भारत के मेक इन इंडिया का खुले दिल से स्वागत किया गया है। जब से पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा इस पहल का ऐलान किया गया था, रूस ने इसमें सक्रिय भूमिका निभाई है।

हम भारत को जो चाहिए वो देंगे

लावरोव ने कहा कि रूस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मेक इन इंडिया इनिशिएटिव का समर्थन किया है। हमने भारत के साथ मिलकर कई उत्पादों का स्थानीय उत्पादन करना शुरू किया है। हम टेक्नोलॉजी ट्रांसफर भी कर रहे हैं। सर्गेई लावरोव ने दृढ़ता दिखाते हुए कहा कि रूस भारत को रक्षा क्षेत्र में जो भी चाहिए, उसे दे सकता है। हम भारत को कुछ भी प्रदान कर सकते हैं।

s jaishankar 3 sixteen nine जयशंकर के अमेरिका को करारे जवाब, रूस हो गया मुरीद, जमकर की तारीफ

ठीक इससे पहले चीन भी जयशंकर की तारीफों के पुल बांधते हुए ये कह चुका है कि अमेरिका को भी उभरती हुई शक्तियों से पेश आना सीख लेना चाहिए।

Related posts

भारत से बातचीत करने के लिए बेकरार है पाकिस्तान, अमेरिका से मांगी मदद

mahesh yadav

लखनऊ: तीसरे चरण की तैयारी, फील्ड पर उतरे DSP और थाना प्रभारी, पोलिंग बूथों का किया निरीक्षण

Saurabh

पर्यटन मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल कल नई दिल्‍ली में राज्‍यों के पर्यटन मंत्रियों के सम्‍मेलन का उद्घाटन करेंगे

bharatkhabar