featured हेल्थ

कोरोना से बचना है तो खूब खाएं ओमेगा 3 और ओमेगा 6 से भरपूर भोजन..

omega 1 कोरोना से बचना है तो खूब खाएं ओमेगा 3 और ओमेगा 6 से भरपूर भोजन..

इस समय पूरी दुनिया कोरोना जैसी खतरनाक बीमारी से जूझ रही है। लाख कोशिशों के बाद भी कोरोना का इलाज फिलहाल तो मिलता हुआ नहीं दिख रहा है। लेकिन कोरोना को लेकर एक महत्वपूर्ण तथ्य खुलकर ये सामने आया है कि, जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत ही कमजोर है या जो लो बूढ़े हो चुके हैं उन पर कोराना सबसे पहले अटैक कर रहा है। इसलिए अगर आप इस जानलेवा बीमारी से बचना चाहते हैं तो सबसे अपने अपने इम्यून सिस्टम को बढ़ाएं। आज हम इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के कुछ ऐसे उपाय बताने जा रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप कोरोना के साथ अन्य बीमारियों से बच सकते हैं।

omega 2 कोरोना से बचना है तो खूब खाएं ओमेगा 3 और ओमेगा 6 से भरपूर भोजन..मेगा 3
शरीर को स्वस्थ रखने के लिए पोषक तत्वों की अहम भूमिका होती है। ये शरीर की कार्यप्रणाली को नियंत्रित और सुचारू रूप से चलाने में मदद करते हैं। इनके महत्व का पता इस बात से लगाया जा सकता है कि शरीर में इनकी कमी विभिन्न शारीरिक समस्या का कारण बन सकती है। ऐसे ही जरूरी पोषक तत्वों में शामिल है ओमेगा 3 फैटी एसिड।

अवसाद यानि की डिप्रेशन से छुटकारा पाने के लिए ओमेगा 3 फैटी एसिड का उपयोग सहायक साबित हो सकता है।। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल की एक रिपोर्ट से पता चलता है कि ओमेगा-3-फैटी चिंता के लक्षण को भी दूर करने में कारगर साबित हो सकता है। इसीलिए ओमेगा 3 को अपने भओजन में इस्तेमाल करें।

ओमेगा 3 फैटी एसिड के लाभ आंखों के लिए भी मददगार हो सकते हैं। इनवेस्टिगेटिव ऑप्थेल्मोलॉजी एंड विजुअल साइंस की एक स्टडी के अनुसार ओमेगा 3 फैटी एसिड का उपयोग उम्र आधारित दृष्टि हानि से बचाव का काम कर सकता है।ओमेगा-3 फैटी एसिड का सेवन हृदय को स्वस्थ रखने और हार्ट स्ट्रोक से बचाव में मदद कर सकता है। साथ ही यह हृदय रोग से जूझ रहे मरीजों के हृदय स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाने का काम कर सकता है। दरअसल, ओमेगा-3 के प्रयोग से ट्राइग्लिसराइड्स को कम किया जा सकता है।

ओमेगा-3 फैटी एसिड सूजन से भी राहत देने में मदद कर सकता है। दरअसल, ओमेगा-3 फैटी एसिड में एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव पाए जाते हैं। एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव इंफ्लेमेशन यानि की सूजन को कम करने में सहायक हो सकते हैं। साथ ही ओमेगा-3 फैटी एसिड गठिया, अस्थमा और इंफ्लेमेटरी बाउल डिसऑर्डर से जुड़ी सूजन की समस्या को भी कुछ हद तक कम करने में मददगार हो सकता है।

ओमेगा-3 से नींद बहुत अच्छी आती है। इललिए अपने भोजन में पोषक तत्वों का जरूर इस्तेमाल करें।

किन चीजों में पाया जाता है ओमेगा 3?
शाकाहारी और मांसाहारी दोनों स्रोतों से हमें ओमेगा-3 फैटी एसिड मिलता है। यह अखरोट जैसे सूखे मेवों, अलसी, सूरजमुखी, सरसों के बीज, कनोडिया या सोयाबीन, स्प्राउट्स, टोफू, गोभी, हरी बीन्स, ब्रोकली, शलजम, हरी पत्तेदार सब्जियों और स्ट्रॉबेरी, रसभरी जैसे फलों में काफी मात्रा में पाया जाता है। ट्यूना, सामन, हिलसा, सार्डिन जैसी मछलियां, शैवाल, झींगा जैसे सी-फूड ओमेगा-3 के ईपीए और डीएचए प्रकार के अच्छे स्रोत हैं। इसके अलावा गाय का दूध, मूंगफली, अंडे का सेवन भी फायदेमंद है

ओमेगा 6 का इस्तेमाल
ओमेगा-6 फैटी एसिड हमारे मस्तिष्क को सुचारू रूप से चलाने और दिल से जुड़ी बीमारियों के खतरे को कम करने के लिये बहुत ज़रूरी है। वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन के अनुसार ओमेगा-6 फैटी एसिड से हमें 5-8% एनर्जी मिलती है। 14 से 50 साल की उम्र के सभी लोगों के लिए बेहद जरूरी है।

https://www.bharatkhabar.com/modi-cabinet-meeting-regarding-lockdown-5/
अगर आपने इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाना चाहते हैं तो इसके लिए आप मुंगफली,मछली, अखरोट और ओलिव ऑयल का इस्तेमाल कर सकते हैं।ओमेग3 और ओमेगा 6 न सिर्फ शरीर को एनर्जी देता है बल्कि इम्यून सिस्टम को भी मजबूत बनाता है। इसलिए कोरोना काल में जहां तक हो सके तो ऐसे खाने का इस्तेमाल करें जिनमें ओमेगा 3और ओमेगा 6 पाया जाता है।

Related posts

यूपी: शुक्रवार से शुरू होगी कुशीनगर और दिल्ली के बीच पहली यात्री हवाई सेवा

Rahul

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 11187.17 लाख की 41 योजनाओं का किया लोकार्पण एवं शिलान्यास

Samar Khan

भारत में व्हाट्सएप डाउन: ऑनलाइन स्टेटस, प्राइवेसी सेटिंग्स फेस इश्यूज

Rani Naqvi