धर्म

आज का पंचांग : भगवान विष्णु की पूजा से करें दिन की शुरुआत

0521 aaj ka panchang 18 july 2019 आज का पंचांग : भगवान विष्णु की पूजा से करें दिन की शुरुआत

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक आज 16 सितंबर 2021 दिन गुरुवार, भाद्रपद शुक्ल पक्ष मास की एकादशी तिथि है। तिथि के अनुसार आज का दिन धार्मिक दृष्टि से बहुत शुभ मानी जाता है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है भगवान विष्णु की पूजा करने से आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। वैसे गुरुवार का दिन विष्णु भगवान का ही होता है, ऐसे में एकादशी का गुरुवार के दिन होना अत्यंत शुभ माना जाता है।

आज का पंचांग

  • विक्रम संवत – 2078, आनन्द
  • शक सम्वत – 1943, प्लव
  • पूर्णिमांत – भाद्रपद
  • अमांत – भाद्रपद

तिथि

  • शुक्ल पक्ष दशमी  – Sep 15 11:17 सुबह – Sep 16 09:36 सुबह
  • शुक्ल पक्ष एकादशी  – Sep 16 09:36 सुबह – Sep 17 08:08 सुबह

नक्षत्र

  • उत्तराषाढ़ा – Sep 16 04:56 सुबह – Sep 17 04:09 सुबह
  • श्रवण – Sep 17 04:09 सुबह – Sep 18 03:36 सुबह

करण

  • गर – Sep 15 10:25 शाम – Sep 16 09:36 सुबह
  • वणिज – Sep 16 09:36 सुबह – Sep 16 08:50 शाम
  • विष्टि – Sep 16 08:50 शाम – Sep 17 08:08 शाम

योग

  • शोभन – Sep 16 12:53 सुबह – Sep 16 10:31 शाम
  • अतिगण्ड – Sep 16 10:31 शाम – Sep 17 08:21 शाम

वार

गुरुवार

सूर्य और चंद्रमा का समय

  • सूर्योदय – 6:17 सुबह
  • सूर्यास्त – 6:25 शाम
  • चन्द्रोदय – Sep 16 3:29 शाम
  • चन्द्रास्त – Sep 17 2:25 सुबह

अशुभ काल

  • राहू – 1:52 शाम – 3:23 शाम
  • यम गण्ड – 6:17 सुबह – 7:48 सुबह
  • कुलिक – 9:19 सुबह – 10:50 सुबह
  • दुर्मुहूर्त – 10:20 सुबह – 11:08 सुबह, 03:11 शाम – 04:00 शाम
  • वर्ज्यम् – 08:03 सुबह – 09:37 सुबह

शुभ काल

  • अभिजीत मुहूर्त – 11:57 सुबह – 12:46 शाम
  • अमृत काल – 09:57 शाम – 11:30 शाम
  • ब्रह्म मुहूर्त – 04:41 सुबह – 05:29 सुबह

आनन्दादि योग

ध्वांक्ष Upto – 05:42 सुबह

ध्वजा (केतु)

 

Related posts

कामिका एकादशी कल, भगवान विष्णु को ऐसे करें प्रसन्न, जाने पूजा की विधि और शुभ मुहूर्त?

Saurabh

मंदोदरी और रावण के विवाह का साक्षी है ये मंदिर जाने खबर में पूरा इतिहास

piyush shukla

Sankashti Chaturthi 2021 : आज है विघ्नराज संकष्टी चतुर्थी, जानिए कैसे करनी है भगवान गणेश की पूजा और किस मंत्र से जीवन में आयेगी खुशहाली

Kalpana Chauhan