featured देश

Delhi MCD Integration Bill: लोकसभा में पेश हो सकता है दिल्ली एमसीडी एकीकरण बिल, जानिए भाजपा को क्या होगा फायदा

महिला 51 Delhi MCD Integration Bill: लोकसभा में पेश हो सकता है दिल्ली एमसीडी एकीकरण बिल, जानिए भाजपा को क्या होगा फायदा

केंद्र सरकार ने दिल्ली के तीनों नगर निगमों को एक साथ मिलाने की पूरी तैयारी कर ली है। कैबिनेट बैठक के दौरान मंगलवार को दिल्ली की तीनों नगर निगम के एकीकरण (Delhi MCD Integration Bill)  प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है। ऐसे में संभावना है। कि दिल्ली एमसीडी इंटीग्रेशन बिल को आज लोकसभा में पेश किया जा सकता है। वहीं भाजपा ने अपने सभी लोकसभा सांसदों को सदन में मौजूद रहने के लिए व्हिप जारी किया है। ऐसे में कहा जा रहा है कि पूर्वी दिल्ली उत्तरी दिल्ली और दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के एकीकरण को लेकर लोकसभा में आज बिल पेश किया जाएगा।

दिल्ली एमसीडी चुनावों की तारीखों का ऐलान अभी नहीं

गौरतलब है कि 9 मार्च को दिल्ली राज्य चुनाव आयोग ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिल्ली निगम की तारीखों का ऐलान करना था, लेकिन इसे टाल दिया गया। इस दौरान राज्य चुनाव आयोग ने कहा कि उपराज्यपाल अनिल बैजल ने पत्र लिखकर तीनों नगर निगमों को एकीकरण (Delhi MCD Integration Bill) के लिए केंद्र सरकार की मंशा को अवगत कराया है। यही कारण है कि चुनाव आयोग ने दिल्ली नगर निगम के चुनावों की तारीखों का ऐलान अभी नहीं किया। चुनाव आयोग का कहना है कि 18 मई से पहले दिल्ली में नगर निगम के चुनाव होने चाहिए इसीलिए 18 अप्रैल तक अधिसूचना जारी की जाएगी।

केंद्र पर हमलावर AAP

दिल्ली एमसीडी चुनावों की तारीखों को टालने और नगर निगम के एकीकरण को लेकर दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी केंद्र की मोदी सरकार पर लगातार हमलावर है। इसी कड़ी में बुधवार को दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भाजपा को खुली चुनौती दी है केजरीवाल ने कहा है कि भाजपा अपने आप को देश की सबसे बड़ी पार्टी कहती है लेकिन छोटी सी आम आदमी पार्टी से घबराकर निगम चुनावों को दिलवाने में लगी हुई है। केजरीवाल ने आगे कहा कि यदि भाजपा दिल्ली में समय पर चुनाव करवाकर और जीतकर के दिखाए, तो राजनीति छोड़ देंगे।

दिल्ली एमसीडी के एकीकरण से भाजपा को क्या होगा फायदा

दिल्ली एमसीडी पर भाजपा का शासन है लेकिन एमसीडी का आरोप है कि दिल्ली की केजरीवाल सरकार निगम को फंड नहीं देती ऐसे में अगर दिल्ली की तीनों नगर निगम एक हो जाती है तो एक मेयर होगा और उस मेयर की ताकत दिल्ली के मुख्यमंत्री के बराबर होगी। ऐसे में कहा जा रहा है कि दिल्ली विधानसभा में भाजपा काफी पीछे है जिसकी वजह से एमसीडी के जरिए भाजपा केजरीवाल सरकार को कमजोर करना चाहते हैं। 

यदि इस बार भी दिल्ली एमसीडी में भाजपा की जीत होती है तो वह दिल्ली की केजरीवाल सरकार को कमजोर करने की रणनीति के तहत तीनों नगर निगम का एकीकरण करना चाहती है।

Related posts

अफ्रीका ने गढ़ी भारतीय प्रवासियों की पहचान: मोदी

bharatkhabar

मध्यप्रदेशः मुख्यमंत्री चौहान की अध्यक्षता में हुई मंत्रि-परिषद बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय

mahesh yadav

उत्तराखंड: प्रदेश के नए मुख्य सचिव एसएस संधू ने पदभार किया ग्रहण

pratiyush chaubey