featured धर्म यूपी राज्य

ब्रज संस्कृति व पर्यावरण के स्वरूप को लेकर घमासान।

WhatsApp Image 2022 01 25 at 9.30.52 AM 2 ब्रज संस्कृति व पर्यावरण के स्वरूप को लेकर घमासान।

अमित गोस्वामी ब्रज संस्कृति व पर्यावरण के स्वरूप को लेकर घमासान।अमित गोस्वामी।।

पत्रकार विनीत नारायण (द ब्रज फ़ाउंडेशन ) के अध्यक्ष और शैलजा कांत ( उपाध्यक्ष यूपी ब्रज तीर्थ विकास परिषद’ ) के विवाद में नया मोड़ तब आ गया जब ब्रजवासियों को बरगलाने काम ब्रज में बाहर से आकर बसे मठाधीशों और अफ़सरों ने 10 जनवरी 2022 को वृंदावन के श्रोत मुनि आश्रम में एक साजिश के तहत बैठक आयोजित की, जिसका लब्बोलुआब विनीत नारयण के विरूद्ध जनांदोलन की भूमिका तैयार करने के उद्देश्य था। आपको बताते चले कि शैलजा कांत मिश्रा द्वारा कई कार्यदायक संस्थाओं के माध्यम से गत पाँच वर्षों में ,सरकार का अरबों रुपया खर्च किया है परन्तु धरातल पर ब्रजवासियों व पर्यटकों के लिये अधिक लाभदायक नहीं रहा है।

WhatsApp Image 2022 01 25 at 9.30.52 AM ब्रज संस्कृति व पर्यावरण के स्वरूप को लेकर घमासान।

द ब्रज फ़ाउंडेशन आरोप लगाते रहे कि आध्यात्मिक स्तर का एक भी कार्य ब्रज संस्कृति के अनुरूप शेलजकांत नहीं कर पाये। उन पर नाकारापन और भ्रष्टाचार के आरोप पत्रकार विनीत नारायण लगातार उठाते रहे हैं । पिछले महीने में दो बार प्रेस वार्ता में भी नारायण ने शैलजा कांत मिश्रा से परिषद के खातों को सार्वजनिक करने की माँग की थीं।

साजिश का खुलासा करते हुए चतुश्समप्रदाय के महंत वयोवृद्ध संत श्री फूलडोल दास महाराज ने सोमवार की देर रात एक प्रेस वार्ता बुलाकर किया। उनके अनुसार शैलजा कांत, आर आर एस के करीबी ज्ञानानंद महाराज, कृष्णकृपा धाम, व कार्ष्णि नागेंद्र के कहने पर पत्रकार नारायण के विरूद्ध यह बैठक श्रोतमुनि आश्रम, वृन्दावन में आयोजित की थी।

WhatsApp Image 2022 01 25 at 9.32.31 AM ब्रज संस्कृति व पर्यावरण के स्वरूप को लेकर घमासान।

ब्रजवासियों, संतों व भागवताचार्यों को विषय बताया गया कि मुख्यमंत्री योगी को पत्रकार नारायण ने अपशब्द कहे है तथा बड़ी दक्षिणा व भंडारे के प्रलोभन देकर संतों, पुजारियों और भागवताचार्यों को बुलाया।
योजना अनुसार आयोजकों ने माइंड वाश कर बैठक में झूठ पर आधारित उत्तेजक वातावरण बनाकर विनीत नारायण के विरुद्ध अभद्र व निकृष्ट भाषा का प्रयोग करवाया।

इसकी प्रतिक्रिया में जब नारायण ने देश की अनेकों उच्च न्यायालय से मानहानि का नोटिस भिजवाया तो बेठकधारियो को समझ में आया कि उनका दुरुपयोग कर उनकी गरिमा व प्रतिष्ठा की हानि हो चुकी है और वह अपने को ठगा सा महसूस कर रहे है जिसके फलस्वरूप अब सभी ब्रजवासीं संतों के द्वारा उक्त प्रकरण से अलग होते हुए, सार्वजनिक बयान जारी करके स्वयं को इस विवाद से अलग होने का सिलसिला प्रारंभ हो गया है।

WhatsApp Image 2022 01 25 at 9.30.52 AM 1 ब्रज संस्कृति व पर्यावरण के स्वरूप को लेकर घमासान।

श्री विनीत नारायण अनुसार श्री शैलजा कांत मिश्रा ने योगी आदित्यनाथ जी को ढाल बनाकर, अपने ऊपर से सीबीआई की जाँच का ख़तरा टालने के उद्देश्य से , ये षड्यंत्र रचा है।

मथुरा के जन प्रतिनिधि व ब्रज विकास परिषद के अफ़सर, सब बाहर के हैं। इन्हें ब्रज की रसिक परम्पराओं और संस्कृति की कोई समझ नहीं है। इसलिये ये ब्रजवासियों की लगातार उपेक्षा करये हैं। बाहर से आकर वृंदावन में आलीशान आश्रम बनवा- बनवा कर , धर्म का भारी व्यापार करने वाले , सन्यासियों और मठाधीशों को ही ये लोग महत्व देते हैं।

WhatsApp Image 2022 01 25 at 9.30.52 AM 2 1 ब्रज संस्कृति व पर्यावरण के स्वरूप को लेकर घमासान।

अन्य प्रान्त से आये मठाधीशों का ब्रज के भक्ति रस की सैद्धांतिक रसिक परम्पराओं ( गौड़ीय, निम्बार्क, हरिदासी, राधा बल्लभी व पुष्टि मार्ग आदि ) से कोई वास्ता नहीं हैं ।

मठाधीश अपनी मायावादी संस्कृति को वृंदावन ब्रज पर थोप कर ब्रज का स्वरूप बिगाड़ रहे हैं । इनमें से अधिकतर तो राजनेताओं और अफ़सरों के साथ चिपके रहते हैं और अध्यात्म की बजाय राजनीति में रस आता है। ब्रज के धनाधोरी बन मूल ब्रजवासियों के पेट पर लात मार रहे हैं। ब्रजवासियों, तीर्थ पुरोहितों व ब्राह्मण समाज आदि को इन लोगों ने सत्ता से मिलकर पिछले दो दशक में बदनाम किया है।

परन्तु उक्त प्रकरण से साजिशकर्ता पहली बार बेनकाब हुए है।शोसल मीडिया जिस प्रकार तथाकथित संतो के विरोध में कमेंट आ रहे है उससे ब्रज में एक माहौल बन रहा है। सब ब्रजवासी अपने- अपने संगठनों के तले इन बाहरी मठाधीशों व अफ़सरों के विरुद्ध लामबंद हो रहे हैं। जिससे ब्रज- वृंदावन की सदियों पुरानी भक्ति संस्कृति की इन विनाशकारी ताक़तों से रक्षा हो सके और ब्रजवासियों का भला हो सके ।

WhatsApp Image 2022 01 25 at 9.30.54 AM ब्रज संस्कृति व पर्यावरण के स्वरूप को लेकर घमासान।

वही अखिल भारतीय चतु: संप्रदाय श्री महंत की ओर से जारी पत्र के मुताबिक 22 जनवरी 2022 सुदामा कुटिया में विश्व हिंदू परिषद द्वारा आयोजित की गई संतो और भगवताचार्यो की बैठक में विश्व हिंदू परिषद के केंद्र उपाध्यक्ष माननीय श्री चम्पतराय जी द्वारा राम जन्मभूमि अयोध्या में निर्माणाधीन भव्य श्री राम मंदिर निर्माण की प्रगति की रूपरेखा प्रस्तुत की गई, जो कि विभिन्न तीर्थ यात्रा में पिछले कुछ समय से आयोजित की जा रही बैठकों की श्रंखला में थी। इस बैठक के दौरान किसी अन्य विषय पर चर्चा नहीं हुई।

 बैठक में उपस्थित संतो और भगवताचार्यो एवमं समाजसेवियों द्वारा किए गए हस्ताक्षर बैठक की उपस्थिति हेतु मात्र थे, एवं अन्य किसी विषय से इनका कोई लेना देना नहीं था। 

WhatsApp Image 2022 01 25 at 10.51.16 AM ब्रज संस्कृति व पर्यावरण के स्वरूप को लेकर घमासान।

Related posts

धर्म नगरी मथुरा में हुआ रूसी महिला के साथ रेप

piyush shukla

श्राद्ध की अष्टमी में करें ये विशेष उपाय, जीवन में होगी लक्ष्मी की कृपा

Trinath Mishra

राजस्थान में पुजारी हत्याकांड मामलें में आया नया मोड़, पेट्रोल खरीदने वीडियो आया सामने

Samar Khan