मेरठ में किसान महापंचायत: केजरीवाल बोले- योगी सरकार ने चीनी मिल मालिकों के आगे टेके घुटने

मेरठ: उत्‍तर प्रदेश के मेरठ जिले में आम आदमी पार्टी (AAP) की किसान महापंचायत हो रही है। इस महापंचायत को संबोधित करने के लिए दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल पहुंच गए हैं।

यह भी पढ़ें: यूपी पंचायत चुनाव: राजा के गढ़ में बाहुबली की एंट्री, क्या बदलेगा सियासी समीकरण?

इस दौरान कृषि कानूनों पर निशाना साधते हुए उन्‍होंने केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों को डेथ वारंट करार दिया। उन्‍होंने कहा कि पिछले 25 सालों में साढ़े तीन लाख किसानों ने आत्‍महत्‍या की है, जो छोटी बात नहीं है।

 

केजरीवाल के भाषण की बड़ी बातें:
  • आज अपने देश का किसान बहुत ज्यादा पीड़ा में है। किसान भाई परिवार समेत 95 दिनों से कड़कती ठंड में दिल्ली के बॉर्डर पर धरने पर बैठा है। 250 से ज्यादा किसान भाइयों की शहादत हो चुकी है। लेकिन सरकार के सिर पर जूं नहीं रेंग रही है।
  • सभी पार्टी की सरकारों ने 70 सालों किसानों को धोखा दिया है। किसान 70 साल से अपनी फ़सल का सही दाम मांग रहा है। सभी के चुनावी घोषणापत्र में लिखा होगा कि हमें जीता दो हम सही दाम दे देंगे। लेकिन अगर सही दाम दे देते तो किसान आत्महत्या नहीं करता।
  • पिछले 25 साल में साढ़े 3 लाख लोग किसान आत्महत्या कर चुके है। अब किसान दिल्ली के बॉर्डर पर शहादत क्यों दे रहे है? क्योंकि उनकी ज़िंदगी-मौत पर आ गयी है। सब की खेती पूंजीपति के हाथ मे चली जाएगी और किसान अपने खेत में मजदूर बन जायेगा।
  • भाजपा ने 2014 के घोषणापत्र में कहा था कि हम स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू करेंगे। किसानों ने इन्हें जमकर वोट दिया। तीन साल बाद भाजपा ने सुप्रीम कोर्ट के एफिडेविट में लिखा कि वो MSP नहीं देंगे। इन्होंने किसानों की पीठ में छुरा मार दिया।
  • किसानों पर लाठियां बरसाई जा रही हैं, कीले ठोकी जा रही हैं। ऐसा तो अंग्रेज़ों ने हमारे किसानों पर इतने जुल्म नहीं किए थे, भाजपा ने तो अंग्रेज़ों को भी पीछे छोड़ दिया। अब ये हमारे किसानों पर झूठे मुकदमे कर रहे हैं।
  • केंद्र सरकार ने 9 स्टेडियम को जेल बनाने के लिए पत्र भेजा था, जिसकी फ़ाइल इन्होंने मेरे पास भेजी। लेकिन हमने फ़ाइल क्लियर नहीं की। अगर हम जेल बनाने देते तो ये किसानों को वहाँ कैद कर लेते और सारा आंदोलन खत्म हो जाता।
  • केंद्र सरकार के मंत्री घूम कर कह रहे है कि MSP था, MSP है, MSP रहेगा। मैं योगी जी से पूछना चाहता हूँ कि पश्चिम उत्तर प्रदेश की एक मंडी दिखा दो जहाँ MSP पर धान उठती हो।
  • मैं योगी से पूछना चाहता हूँ कि आपकी क्या मजबूरी है जो पूरी सरकार चीनी मिल मालिकों के आगे घुटने टेक कर बैठी है। अगर तुम किसानों को चीनी मिल मालिकों से उनके पैसे नहीं दिला सकते तो तुम्हारी सरकार पर धिक्कार है।
  • भाजपा कहती है कि MSP नहीं दी जा सकती क्योंकि इसमें 17 लाख करोड़ का खर्च आएगा। किसान आपसे MSP फ्री में नहीं मांग रहा बल्कि किसान अपनी फसल देगा। सरकार उस फसल को बेच कर पैसा तो कमाएगी। केंद्र सरकार चाहे तो 23 की 23 फसलें MSP पर उठा सकती है।
  • भाजपा ने किसानों से ₹25000 लेकर बिजली के मीटर लगा दिए। दिल्ली में 73% लोगों के बिजली बिल जीरो आते है। अच्छी नियत की सरकार ले आओ, गैस के दाम भी कम हो जाएंगे, पेट्रोल के दाम भी कम हो जायेगे और यहाँ ट्यूबवेल के साथ बिजली भी मुफ़्त कर देंगे।

 

मेरठ में दिल्ली बाईपास स्थित संस्कृति रिसोर्ट में किसान महापंचायत के मंच पर आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह और कई नेता मौजूद हैं। केजरीवाल ने पहुंचते ही किसानों का हाथ हिलाकर अभिवादन किया।

 

 

सांसद संजय सिंह ने केंद्र पर साधा निशाना

इससे पहुंचे किसान महापंचायत में पहुंचे आप सांसद संजय सिंह ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, देश को आंदोलनजीवियों ने ही आज़ाद करवाया था, इसलिए आंदोलनजीवियों को मज़ाक मत उड़ाओ बल्कि तीनों किसान विरोधी काले कानूनों को वापिस लो। उन्‍होंने कहा, आंदोलनजीवियों ने ही हमें लोकतंत्र दिया और अंग्रेज़ों से लड़कर इस देश को आज़ाद कराया। ये काले कानून आपको वापस लेने ही होंगे, इससे कम पर देश का किसान मानने वाला नहीं है।

 

कमल के फूल वाले सड़क पर काँटे लगा रहे

वहीं, आप सांसद भगवंत मान ने कहा, भाजपा को शर्म आनी चाहिए। पिछले 100 दिन से किसान दिल्ली बॉर्डर पर परिवार समेत बैठे है, उनमें से 80 प्रतिशत किसानों के बेटे देश की सीमा पर खड़े है, जिन्हें भाजपा वाले आतंकवादी, देशद्रोही और नक्सली का टैग दे रहे हैं। कमल के फूल वाले सड़क पर किसानों के लिए काँटे लगा रहे हैं।

यूपी पंचायत चुनाव: राजा के गढ़ में बाहुबली की एंट्री, क्या बदलेगा सियासी समीकरण?

Previous article

प्रतापगढ़ में दिखी अपना दल विधायक की गुंडई, टोल कर्मियों की हुई पिटाई

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured