दिल्ली: गुरूद्वारा बंगला साहिब विदेशी पर्यटकों के लिए बना आकर्षण का केन्द्र, एक साल में 12 लाख सैलानियों ने टेका माथा

दिल्ली: गुरूद्वारा बंगला साहिब विदेशी पर्यटकों के लिए बना आकर्षण का केन्द्र, एक साल में 12 लाख सैलानियों ने टेका माथा

देश की राजधानी दिल्ली स्थित सिक्ख धर्म से जुड़ा धार्मिक स्थल ‘’गुरूद्वारा बंगला साहिब’’ 2017 से सैलानियों के लिए पसंदीदा स्थल बना है। 2017 में आए 12 लाख अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों ने अपनी आत्मिक शांति के लिए गुरूद्वारा बंगला साहिब में माथा टेका ओर अरदास लगाई और प्रसाद के रूप में लंगर भी खाया, इसके बाद 2018 के पहले चार महीने में अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों ने पवित्र धार्मिक स्थल गुरूद्वारा बंगला साहिब में शीश झुकाया।

 

 

इस धार्मिक स्थल से जुड़ी खास बात है, जो भाई चारे की मिसाल पेश कर रहा वह है धार्मिक स्थल से जुड़े लोग गुरूद्वारा बंगला साहिब के ग्रंथी मस्जिद की देख–रेख करते हैं। बता दें कि 2017 में राजधानी दिल्ली में स्थित “गुरूद्वारा बंगला साहिब”दिल्ली टूरिस्ट प्लेस पर किए गए सर्वे में अव्वल रहा “गुरूद्वारा बंगला साहिब”अंतर्राष्ट्रीय सैलानियों के लिए सबसे पसंदीदा स्थल बना। यहां विदेशी पर्यटक आत्मिक शांति और स्वच्छ वातावरण के साथ ऐतिहासिक व धार्मिक ज्ञान के लिए आते हैं।

 

 

सिखों के आठवें गुरू ,गुरू हरिकिशन साहिब जी से जुड़ा हुआ धार्मिक स्थल “गुरूद्वारा बंगला साहिब” में अंतर्राष्ट्रीय सैलानियों की सुविधा और सहायता के लिए गुरूद्वारा प्रबंध कमेटी ने एक सूचना केन्द्र स्थापित किया है। जिसमें 7 भाषाओं के विशेषज्ञों को टूरिस्ट गाइड नियुक्त किया गया है। ताकि विदेशी मेहमानों को सिक्ख धर्म से जुड़े इस धार्मिक स्थल के बारे में सांस्कृतिक और ऐतिहासिक महत्व की जानकारी देते हैं। अधिकतर टूरिस्ट 15 से 25 के ग्रुप मे अलग-अलग ट्रेवल एजेंसियों के जरिए “गुरूद्वारा बंगला साहिब” का दिदार करने आते हैं।बहुत से टूरिस्ट यहां सिक्ख धर्म के बारे में रिसर्च करने के लिए आते हैं।दिल्ली गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके ने बताया कि सिक्ख धर्म के विभिन्न पहलुओं की जानकारी देने के लिए गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी ने 10 अंतर्राष्ट्रीय भाषाओं में सिक्ख साहित्य प्रकाशित किया है। मंजीत सिंह ने कहा कि इससे अंतर्राष्ट्रीय टूरिस्ट अपनी मातृ भाषा में सिक्ख धर्म के विभिन्न पहलुओं के बारे में जानकारी हासिल कर सकें। उन्होंने बताया कि इस वर्ष1लाख से ज्यादा पुस्तकें मुफ्त में बांटी जा चुकी हैं।

 

 

“गुरूद्वारा बंगला साहिब”में बना मल्टीमीडिया म्यूजियम अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को सिक्ख धर्म के बारे में जानकारी देने का सबसे बड़ा और आसान माध्यम है।म्यूजियम में पेंटिंग डिजिटल टैक्नोलॉजी,स्कीरन भित्ति-चित्र,टीवी,अनेक भाषाओं में सिक्ख धर्म के मूल सिद्धातों की जानकारी दी जाती हैं। इस म्यूजियम में 250 पेंटिंग वाली चार गैलरियां हैं। एक चोटा ऑडिटोरियम है, जिसकी 170 लोगों की क्षमता है। यहां पर सिक्ख धर्म से संबंधित गुरूओं और योद्धाओं के दर्शनशास्त्र और उपदेशों पर आधारित 5 मिनट की फिल्म दिखाई जाती है।गुरूद्वारा में स्थित सरोवर का जल दुनिया भर के सिक्ख अपने साथ ले जाते धारणा है। यह जल अमृत जल है।