नोटबंदी पर रावत का वित्तमंत्री को पत्र, राज्य की हालत का दिया ब्यौरा

देहरादून। मुख्यमंत्री हरीश रावत ने राज्यों में नोटबंदी के बाद के हालातों का ब्यौरा वित्त मंत्री को पत्र लिखकर दिया। उन्होंने अपने इस पत्र में कहा कि काला धन की समस्या को दूर करने के लिए मोदी सरकार द्वारा उठाया गया ये कदम सराहनीय है लेकिन इसके लिए केंद्र सरकार को उसी प्रकार तैयारी भी होनी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड एवं इ तरह के छोटे राज्यों में इस फैसले से हाल बदहाल है।

harish-rawat

नोटबंदी के कारण राज्य का पर्यटन विभाग काफी प्रभावित हुआ है। पहाड़ी इलाकों में आम नागरिक का एक बड़ा तबका बैंकों के द्वारा ही पैसा निकालते हैं। यहां के लोग आनॅलाइन सुविधा का कम ही प्रयोग करते हैं ऐसे में लोगों को काफी असुविधा हो रही है। इसके अलावा इस फैसले के बाद से जनजीवन पर भी बुरा असर पड़ा है। प्रदेश में कृषि कार्य भी बड़े तौर पर प्रभावित हुआ है।

किसानों की निर्भरता बैंको पर

अपने इस पत्र में उन्होंने कहा कि राज्य में ज्यादातर किसान बैंकों के ऊपर ही निर्भर है। गरीब किसान पैसे निकालने के लिए बैंको पर जाएंगे जिससे बैंकों के ऊपर ज्यादा दबाव पड़ेगा। जिससे पूरे बैंकिग सेवा पर बुरा असर पड़ेगा। और लोगों का विश्वास सरकार से हटता जाएगा।

इसके अलावा रावत ने लिखा कि राज्य में नकदी की कमी होने से बिक्री, वस्तुओं एवं बाजार पर भी बुरा असर पड़ रहा है। घूमने के लिए आए लोग पैसे की कमी के कारण वापस जा रहे हैं। आवाजाही में लोगों को परेशान होनो पड़ रहा है। जिसके फलस्वरूप राज्य के टैक्स आय स्त्रोत भी कम हो गए हैं। व्यापार में भी लोगों को बहुत नुकसान उठाना पड़ रहा है।