सचिवालय में मनाई गई गांधी जयंती

देहरादून। देश भर में गांधी जयंती पूरे धूमधाम से मनाई जा रही है, इसी क्रम में मुख्य सचिव शत्रुघ्न सिंह ने गांधी और शास्त्री जयंती के अवसर पर देहरादून सचिवालय में उनके चित्र पर माल्यार्पण कर भावपूर्ण स्मरण किया। मुख्य सचिव ने बताया गांधी जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि गांधी जी के आदर्शाें पर चलकर किसी भी मुश्किल से मुश्किल काम को आसान किया जा सकता है। अंतराष्ट्रीय अहिंसा दिवस पर दुनिया में सद्भावना, प्रेम, शांति और सामंजस्य बनाये रखने के लिए सचिवालय के सभी अधिकारियों, कर्मचारियों से प्रतिज्ञा दिलाई गयी। साथ ही गांधी जी के प्रिय भजन रामधुन का समवेत गायन किया गया।

uttrakhand-satrugh-singh

कार्यक्रम में अपने संबोधन के अवसर पर उन्हानें कहा कि गांधी जी ने अपने जीवन दर्शन को स्वयं पर लागू किया था, उन्होने दुनिया के सामने एक उदाहरण प्रस्तुत किया है, अपने पुस्तकें और ग्रंथ जो उन्होने पढ़े है उनसे जो कुछ उन्होने सीखा उसे अपने जीवन में उतारा भी। ग्रंथ के रूप में गीता और व्यक्तिव के रूप में राम के चरित्र से प्रभावित हुए। आजादी के लिए सशस्त्र विद्रोह के स्थान पर सत्याग्रह को अपनाया। निःसहाय लोगो को शक्ति प्रदान करना, उनका चमत्कार था।

शास्त्री जी के जीवन चरित्र पर प्रकाश डालते हुए उन्होने बताया कि एक सामान्य परिवार से होते हुए उन्हानें अपने जीवन में सादगी को अपनाया, उनमें विचार की दृढ़ता थी। जय जवान जय किसान‘ का नारा देकर देश का मनोबल बढ़ाया। उन्होने कहा कि दोनो महामानवो का जीवन दर्शन हमारे लिए आज भी अनुकरणीय है। कार्यक्रम में प्रमुख सचिव, सचिव, अपर सचिव सहित सचिवालय के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।