निजी निवेश बढ़ाने के लिए बैंक ऋण वसूली जरुरी : जेटली

नई दिल्ली। केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को कहा कि निजी और घरेलू निवेश को बढ़ावा देने के लिए बैंकों को उनका ऋण वसूल करना है। ऋण वसूली पर आयोजित एक संगोष्ठी में जेटली ने कहा कि सार्वजनिक निवेश बढ़ा है और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के लिए भारत एक अनुकूल जगह है, लेकिन घरेलू निजी निवेश बढ़ना चाहिए।

as-to-increse-the-personal-investment-bank-debt-collection-is-important-says-jaitely

मंत्री के अनुसार, निजी क्षेत्र को निवेश के लिए बैंक से ऋण चाहिए और ऋण देने के लिए बैंकों को अपना पुराना ऋण वसूल करना चाहिए।जेटली ने कहा कि बैकों के लिए ऋण देना मुश्किल होता है, जब उसके पक्के -चिट्ठे दबाव में होते हैं और ऋण के रूप में दिए गए उसके पैसे बकाएदारों के पास होते हैं।उन्होंने कहा कि बकाएदारों से पैसे वसूलने के लिए कार्य कुशलता बढ़ानी होगी। जेटली ने आगे कहा कि बकाया संबंधी मुकदमे से भारत में माहौल बिगड़ता है, क्योंकि ऋण के रूप में दिए गए बैंक के रुपये फंस जाते हैं और दूसरों को ऋण देने से रोकते हैं।