मधेपुरा में धार्मिक जुलूस पर पथराव के बाद तनाव

मधेपुरा| बिहार के मधेपुरा जिला के बिहारीगंज में एक बार फिर बुधवार को दो गुटों के बीच तनाव बढ़ गया है। बुधवार को धार्मिक आयोजन के बीच दो पक्षों के बीच पथराव हुआ। इसके बाद पुलिस को भीड़ पर नियंत्रण पाने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े। पुलिस के अनुसार, बुधवार को जब एक समुदाय का जुलूस बिहारीगंज बाजार पहुंचा तब किसी शरारती तत्व ने पत्थर फेंक दिया। इसके बाद दोनों ओर से पथराव होने लगा। पुलिस ने लोगों को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। तत्काल मधेपुरा के जिलाधिकारी मोहम्मद सोहैल और पुलिस अधीक्षक विकास कुमार बिहारीगंज पहुंच स्थिति को नियंत्रण में किया और लोगों को शांत कराया।

bihar-news

पुलिस अधीक्षक विकास कुमार ने कहा कि घटनाओं में शामिल दोषियों के खिलाफ कारवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में स्थिति तनावपूर्ण बना हुआ है परंतु स्थिति नियंत्रण में है।उल्लेखनीय है कि मंगलवार की रात धार्मिक जुलूस पर दूसरे समुदाय के शरारती तत्वों की ओर से पत्थरबाजी की गई थी। इसके बाद दोनों पक्षों में जमकर मारपीट हुई। इस बीच घटनास्थल पर पहुंचे उदाकिशुनगंज के अनुमंडल पदाधिकारी के वाहन में गुस्साई भीड़ ने आग लगा दी तथा पुलिस उपाधीक्षक की गाड़ी को क्षतिग्रस्त कर दिया।

इस घटना के तुरंत बाद माहौल को नियंत्रित करने के लिए मधेपुरा के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक बिहारीगंज पहुंचे और मामले को शांत करने की कोशिश की।स्थानीय सांसद पप्पू यादव भी बुधवार को मौके पर पहुंचे और धार्मिक जुलूस निकाल रहे समुदाय के लोगों को शांत कराया और आनन-फानन में धार्मिक जुलूस को खत्म करवाया।

बिहारीगंज में कैंप कर रहे राज्य के आपदा मंत्री चंद्रशेखर ने बताया कि इन सभी घटनाओं के पीछे उपद्रवी तत्वों का हाथ है। उन्होंने लोगों को शांति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि उपद्रवी तत्वों को बख्शा नहीं जाएगा।