यूपी

जानिए पूर्व राज्य मंत्री स्वाति सिंह ने कैसे बढ़ाई अपने पति दयाशंकर सिंह की मुश्किलें ?

OIP 2 जानिए पूर्व राज्य मंत्री स्वाति सिंह ने कैसे बढ़ाई अपने पति दयाशंकर सिंह की मुश्किलें ?

shivnandan 1 जानिए पूर्व राज्य मंत्री स्वाति सिंह ने कैसे बढ़ाई अपने पति दयाशंकर सिंह की मुश्किलें ? शिवनंदन सिंह, संवाददाता

 

उत्तर प्रदेश सरकार की पूर्व राज्य मंत्री स्वाति सिंह ने एक बार फिर अपने पति और भाजपा के बलिया सदर सीट से चुने गए नव निर्वाचित विधायक दयाशंकर सिंह की मुश्किल बढ़ा दी है।

यह भी पढ़े

संगीत नाटक अकादमी में शुरू हुआ क्लाइडस्कोप उत्सव, कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों के होंगे आयोजन

 

स्वाती सिंह ने फैमिली कोर्ट पहुंचकर तलाक की अर्जी पर सुनवाई के लिए याचिका दाखिल की है। उनके द्वारा पूर्व में दाखिल तलाक की अर्जी हो खारिज हो गई थी। पुरानी तलाक अर्जी पर सुनवाई के लिए उन्होंने पति दयाशंकर सिंह से तलाक की अर्जी दी थी। इसके बाद कोर्ट ने उनकी अर्जी पर फैसला अपने पास सुरक्षित रख लिया है।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री रहीं स्वाति सिंह ने पति दयाशंकर सिंह से काफी समय से तकरार चल रही है। जिसकी वजह से स्वाति सिंह ने एक बार फिर से कोर्ट में तलाक के लिए अर्जी दी हैं। जिसकी वजह से मंत्री स्वाति सिंह ने तलाक के केस को दोबारा शुरू करने के लिए फैमिली कोर्ट में आवेदन दाखिल किया हैं। साल 2018 में फैमिली कोर्ट ने दोनों पक्षों के अदालत नहीं पहुंचने पर केस बंद कर दिया था।

आपको बता दें कि साल 2017 में उत्तर प्रदेश में भाजपा की प्रचंड लहर के चलते स्वाति सिंह को लखनऊ की सरोजनी नगर सीट से विधायकी का चुनाव लड़ाया गया था । स्वाति सिंह ने इस सीट पर जीत दर्ज की थी। सूत्रों की माने तो दयाशंकर सिंह और स्वाति सिंह के बीच लंबे समय से विवाद बताया जा रहा है। वही स्वाति का एक पुराना ऑडियो भी वायरल हुआ था जिसमें वह अपने पति पर मारपीट का आरोप लगा रहीं थीं।

हालांकि, खुलकर कभी भी स्वाति ने इस बात को नहीं कबूला है। वीडियो वायरल होने के बाद उन्होंने इसका खंडन भी किया था। चर्चा थी कि दोनों सरोजनी नगर सीट से टिकट मांग रहे थे। साथ ही एक-दूसरे को टिकट दिए जाने का विरोध भी कर रहे थे। यही कारण है कि पार्टी ने पति और पत्नी के बीच चल रहे विवाद का फायदा पूर्व आईपीएस राजेश्वर सिंह को दे दिया था।

Related posts

बीएसपी छोड़ अब मौर्य थामेंगे कांग्रेस का हाथ!

kumari ashu

बसपा ने फेंका मुसलमानों को लुभाने का दांव

Rahul srivastava

बसपा प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलनः रामभक्तों के बाद अब कृष्ण भक्तों को साधने में जुटी बसपा, मथुरा से होगा आगाज

Shailendra Singh