पाकिस्तान-चीन की नई चाल, भारतीय वैज्ञानिकों को बना रहे टारगेट, देखें अब क्या किया

पाकिस्तान-चीन की नई चाल, भारतीय वैज्ञानिकों को बना रहे टारगेट, देखें अब क्या किया

नई दिल्ली। भारत जहां हर रोज अंतरिक्ष में नई-नई कामयाबी रचने में लगा है, वहीं उसकी कामयाबी ने कुछ देशों की चिंता बढ़ा दी है। ख़ुफ़िया एजेंसीज की रिपोर्ट के मुताबिक इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (ISRO) और डिफेन्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (डीआरडीओ)से जुड़े वैज्ञानिको की जासूसी और उनकी गतिविधियों पर नज़र रखने की साजिश हो रही है। यही नहीं इससे जुड़े वैज्ञानिकों को पाकिस्तान की जासूसी संस्था आइएसआई हनीट्रैप करने की साजिश कर रही है।
साइबर जासूसी ऑपरेशन चला रहा पाकिस्तान
रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान और चीन की एजेंसीज भारतीय वैज्ञानिकों और उससे जुड़े वेबसाइटों की जासूसी हो रही है। पाकिस्तान ने भारतीय वैज्ञानिकों को हनीट्रैप के लिए साइबर जासूसी ऑपरेशन चला रही है और सोशल मीडिया पर कई फेक प्रोफाइल बनाई गयी है, जिससे अहम प्रोजेक्ट्स में लगे वैज्ञानिकों को हनीट्रैप के जाल में फंसाया जा सके।
वैज्ञानिकों का सोशल मीडिया प्रोफाइल पता कर रहा पाक
केंद्रीय सुरक्षा में तैनात एक अधिकारी के मुताबिक पाकिस्तान और चीन भारत के मिसाइल, नुक्लेअर और स्पेस जैसे प्रोग्राम पर खास नज़र रखे हुए है। पोखरण, श्रीहरिकोटा और व्हीलर आइलैंड पर भारत के वैज्ञानिकों की ओर से किये जा रहे टेस्ट की जासूसी की लगातार कोशिश की जा रही है, जिससे इससे जुड़े क्लासिफाइड डाक्यूमेंट्स हासिल किये जा सके।
भारत की सफलता से गुस्से में है पाक
देखा जाये तो पिछले दिनों भारत ने एंटी सेटेलाइट टेस्ट और इस हफ्ते सोमवार को इलेक्ट्रो मैग्नेटिक इंटेलिजेंस सटेलाइट (एमीसैट) का टेस्ट कर पूरी दुनिया को हैरान कर दिया था। एंटी सेटेलाइट मिसाइल का टेस्ट कर भारत अमेरिका, रूस और चीन के बाद ऐसा चौथा देश बन गया है, जिसके पास दुश्मन देश के सेटेलाइट अन्तरिक्ष में खत्म करने की क्षमता आ चुकी है। वहीं एमीसैट के जरिये भारत दुश्मन देश का रडार का पता लगा सकता है जाहिर है ऐसे में चीन और पाकिस्तान की चिंता बढ़ गयी है।
सोशल मीडिया का ले रहा सहारा
पिछले दिनों ऐसे ही एक और रिपोर्ट में कहा गया था है पाकिस्तान की आईएसआई भारतीय सेना की छवि खराब करने के लिए बड़े पैमाने पर साजिश रच रही है। जानकारी के मुताबिक आईएसआई भारतीय सेना से जुड़े कई फर्जी दस्तावेजों को भारत में वितरित कर रही है, जिससे सेना को लेकर लोगों में गलत छवि बने। आईएसआई, फर्जी डॉक्यूमेंट्स को अलग-अलग ग्रुपों के जरिये भारतीय सोशल मीडिया पर वायरल करने में लगी हुई है।
फर्जी पोस्ट वायरल करता है पाक
पिछले दिनों भारतीय सेना के मिलिट्री इंटेलिजेंस से जुड़ा एक फेक लेटर सामने आया था, जिसमें कहा गया था कि भारतीय सेना में जो सिख जवान हैं उन पर नज़र रखी जा रही है। आईएसआई इस काम के लिए अलगाववादी गुट सिख फॉर जस्टिस की मदद ले रही है। फर्जी लेटर सामने आने के बाद एक खास प्लानिंग के जरिये सिख फॉर जस्टिस ने पिछले दिनों सेना के खिलाफ दुनिया के कई देशों में प्रदर्शन किया था और भारतीय सेना को बदनाम करने की कोशिश की थी। सेना ने बाद में इस रिपोर्ट को गलत बताया था और सिख फॉर जस्टिस ने जिस मिलिट्री इंटेलिजेंस से जुड़े लेटर पर विरोध किया था उसे फर्जी बताया था।

  • जी न्यूज से साभार