अमेज़न कंपनी के कुछ कर्मचारियों द्वारा ग्राहकों का निजी डेटा दूसरी कंपनियों को बेचने के मामले की जांच शुरू

नई दिल्ली। दुनिया की जानी-मानी ऑनलाइन रिटेल कंपनी अमेज़न ने बीते रविवार को बताया कि कंपनी के कुछ कर्मचारियों द्वारा ग्राहकों का निजी डेटा दूसरी कंपनियों को बेचने के मामले में जांच शुरू कर दी गई है। आरोप लगा था कि अमेज़न के कुछ कर्मचारी ग्राहकों के निजी डेटा बिचौलियों की मदद से अमेज़न पर अपने सामान को बेचने वाले व्यापारियों को उपलब्ध करा रहे हैं।

बता दें कि वॉल स्ट्रीट जर्नल की एक रिपोर्ट के अनुसार, अमेज़न के कुछ कर्मचारी कंपनी की साइट के जरिये अपना सामान बेचने वाले कुछ व्यापारियों को ग्राहकों का निजी डेटा बेच देते थे। अमेज़न पर ग्राहक सीधे अमेज़न या दूसरे व्यापारियों द्वारा बेचे जाने वाले सामान को खरीद सकते हैं। ग्राहकों का निजी डेटा किसी को बेचा जाना कंपनी के नियमों के खिलाफ है। मीडिया ने अपनी रिपोर्ट में शेंजेन में मौजूद बिचौलियों का ज़िक्र किया है, जो कर्मचारियों के जरिये ग्राहकों का डेटा 80 से लेकर 2000 डॉलर तक में बेचते हैं।

बता दें कि इस रिपोर्ट को लेकर अमेज़न के प्रवक्ता ने बताया कि मामले में गहन जांच की जा रही है। उन्होंने कहा कि इस तरह की चीजें बर्दाश्त नहीं की जाएंगी। दोषी पाए जाने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन लोगों का सेलिंग एकाउंट बंद कर दिया जाएगा, रिव्यू को डिलीट कर दिया जाएगा, उनका फंड रोक लिया जाएगा और कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी। वॉल स्ट्रीट जर्नल के अनुसार, फेक रिव्यू भी अमेज़न के लिए आंतरिक जांच का मामला है और कंपनी महीनों से इसकी भी जांच कर रही है। बता दें कि पूरी दुनिया में फैले अमेज़न के विभिन्न ब्रांचों में करीब 5 लाख 60 हज़ार लोग काम करते हैं।