तो इनके बताए मार्ग पर चल मोदी ने छुड़ाए पाकिस्तान के छक्के !

भारत ने उरी हमले का बदला लेते हुए पीओके में घुसकर आतंकी साजिशों को नाकाम कर दिया , भारतीय सेना के साथ पूरे देश में प्रधानमंत्री मोदी और उनके कूटनीति की जमकर तारीफ हुई। प्रधानमंत्री मोदी ने केरल में अपने संबोधन में यह कहा था कि भारत किसी भी प्रकार से शहीद हुए सैनिको की शहादत को जाया नहीं जाने देगा, और इसी के अनुरुप पीओके सीमा में घुसकर भारतीय सैनिको नें पाकिस्तान के सारे मनसूबों को नस्तोनाबूत कर दिया। पर कया आप जानतें है, भारत ने पहले भी पाकिस्तान में घुस कर मारने की बात कही थी हालांकि ऐसा हुआ नहीं था पर ऐसा माना जा सकता है कि उस महान शख्सियत से प्रेरित होकर मोदी जी को यह कदम उठाना पड़ा।


जी हां हम बात कर रहे है भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की। 2001 में संसद पर हुए हमले के बाद तत्‍कालीन पीएम अटल बिहारी वाजपेयी पर भी दबाव था कि वो पाकिस्‍तान को उसकी सीमा में घुसकर जवाब दें, लेकिन उस वक्‍त उन्‍होंने एलओसी पार ना करने का फैसला किया। पर भारत में रहते हुए ही अटलजी ने देखिए कैसे पाकिस्तान को जवाब दिया था।

अटल जी एक श्रेष्ठ नेता के साथ साथ एक अच्छे कवि भी होते थे, उन्होने अपनी कविता के माध्यम से पाकिस्तान को शब्दबेधी बाणों से छलनी किया था, उन्होने कहा था कि भारत की आजादी के साथ हम किसी भी तरह से कोई समझौता नहीं कर सकते। इस कविता को सुनने के बाद हर भारतीय को एक गर्व महसूस हुआ होगा, आज मोदी पाकिस्तान से बदला ले रहे हैं लेकिन हमला अटलजी ने बहुत पहले ही किया था। एक बार आप भी देखिए अटल जी की प्रसिद्ध कविता।