‘कैप्टन’ विवाद पर बोले सिद्धू, ‘सबके सामने नहीं धोते मैली चादर’

‘कैप्टन’ विवाद पर बोले सिद्धू, ‘सबके सामने नहीं धोते मैली चादर’

नई दिल्ली : पंजाब सरकार में मंत्री और पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू बयानबाजी के कारण लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं. इसी बयानबाजी के कारण अब वह अपनी सरकार के मंत्रियों के निशाने पर भी हैं. सिद्धू ने हाल ही में बयान दिया कि उनके कैप्टन मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह नहीं बल्कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी हैं.

 

मंत्रियों ने की सिद्धू से इस्तीफे की मांग

जिसके बाद पंजाब सरकार के कई मंत्रियों ने सिद्धू का इस्तीफा मांगा है.  सोमवार (आज) पंजाब कैबिनेट की बैठक है, ऐसे में इस मुद्दे पर कोई बड़ा फैसला हो सकता है. कैप्टन अमरिंदर के निवास पर कैबिनेट बैठक शुरू हो गई है. कहा जा रहा है कि इससे पहले कुछ मंत्री अलग से बैठक कर इस मुद्दे को कैबिनेट में उठाने का फैसला कर सकते हैं.

‘सबके सामने नहीं धोते मैली चादर’

सिद्धू से या तो बयान वापस लेने को या माफी मांगने को कहा जा सकता है अन्यथा मंत्री पद से इस्तीफे की बात भी मनवाई जा सकती है. बैठक से पहले नवजोत सिंह सिद्धू ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ चल रहे विवाद पर पहली बार सफाई दी है.

राजस्थान के झालावड़ में मीडिया से सिद्धू ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह उनके पिता के समान हैं, वह उनका सम्मान करते हैं. जो भी विवाद है वह उनसे मिलकर सुलझा लेंगे. इस बीच सिद्धू ने ट्वीट भी किया, ”बुरे दिन जाने वाले हैं, राहुल गांधी आने वाले हैं”.

पंजाब में छिड़ी पोस्टर वॉर

गौरतलब है कि पंजाब सरकार के तीन मंत्रियों ग्रामीण एवं विकास मंत्री राजिंदर सिंह बाजवा, राजस्व और पुनर्वास मंत्री सुखविंदर सिंह सरकारिया और खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी ने सिद्धू पर हमला किया है. राज्य सरकार के करीब 10 मंत्री सिद्धू की बयानबाजी से खफा हैं.