ब्रेक्सिट के प्रभावों पर नजर रखेगा आईएमएफ

वॉशिंगटन। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की प्रबंध निदेशक क्रिस्टीन लागार्दे ने शुक्रवार को कहा कि ब्रिटेन के यूरोपीय संघ (ईयू) से बाहर निकलने के पक्ष में मतदान के बाद संगठन इसके होने वाले प्रभावों पर नजर रखेगा। इसके साथ ही वह किसी भी तरह की वित्तीय समस्याओं के लिए सदस्य देशों की मदद करने के लिए तैयार है।

IMF Managing Director Christine Lagarde

लागार्दे ने जारी बयान में कहा, “हम ब्रिटेन के लोगों के फैसले का आकलन कर रहे हैं। हम इन घटनाक्रमों पर बराबर नजर रखेंगे और जरूरत पड़ने पर ईयू के सदस्य देशों के समर्थन के लिए तैयार है।”

लागार्दे ने ब्रिटेन और यूरोपीय प्रशासन को भी ब्रिटेन और ईयू के बीच नए आर्थिक संबंधों में सुगम परिवर्तन सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम करने का आग्रह किया।

आईएमएफ निदेशक ने यह आश्वासन भी दिया, “हम बैंकिंग प्रणाली में नकदी की आपूर्ति और अत्यधिक वित्तीय अस्थिरता को थामने के लिए बैंक ऑफ इंग्लैंड और ईसीबी (यूरोपीय केंद्रीय बैंक) की प्रतिबद्धताओं का पुरजोर समर्थन करते हैं।”

आईएमएफ ने दो सप्ताह पहले ही पाउंड स्टर्लिग में अवमूल्यन, ब्रिटेन की अर्थव्यवस्थआ में मुद्रास्फीति में तेजी पर चेतावनी जारी करते हुए एक रपट जारी की थी।

ब्रिटेन के ईयू से निकलने के पक्ष में मतदान से पाउंड का अवमूल्यन जारी रहेगा। यह यूरो और डॉलर के मुकाबले चार प्रतिशत और छह प्रतिशत तक लुढ़क गया।

(आईएएनएस)