शराबबंदी को लेकर नीतीश ने मांगा जनता से सुझाव तो गरम हुए मोदी

पटना। बिहार में शराबबंदी को लेकर एक बार फिर नीतीश कुमार विपक्ष के निशाने पर आ गये हैं। बिहार सरकार ने एक विज्ञापन जारी करते हुए जनता से इसके लिए सुझाव मांगे है। जिसके बाद विपक्ष नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साध रहा है। विपक्षी दल भाजपा के नेता सुशील मोदी ने तो इसे नाटक करार दिया है।

sushil-modi-said-that-modi-fulfill-the-dreams-of-lohia

भाजपा के नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने अब नीतीश सरकार के इस सुझाव मांगने को नाटक बताते हुए कहा है कि कानून बनाने से पहले जनता से राय मांगी जाती है। कानून बनने के बाद राय मांग रही नीतीश सरकार केवल नाटक कर रही है। सरकार को चाहिए कि कानून में संसोधन के लिए जल्द एक सर्वदलीय बैठक बुलाए और आमसहमति के जरिए कानून में संसोधन करे।

नीतीश सरकार केवल नौटंकी कर रही है अगर सुझाव के जरिए संसोधन करना है तो पिछले 6 माह में जो जनता ने सुझाव भेजे हैं तो पर्याप्त है संसोधन के लिए। सरकार ने शराबबंदी के नाम पर 18 हजार से ज्यादा लोगों को जेल में डाल दिया 3 लाख लीटर से ज्यादा शराब जब्त की लेकिन आज भी राज्य में पूर्ण शराबबंदी लागू करने में विफल रही है। बिहार में शराबबंदी को लेकर एक तरफ नीतीश ्पने इस अभियान को सफल बनाने में लगे हैं। तो दूसरी तरफ शुरूआत से ही नीतीश सरकार अपने इस फैसले को लेकर विरोध का सामना कर रही है।