नोट बंदी के बाद माया गरजीं तो अखिलेश ने लगाई गुहार

लखनऊ। कालेधन पर और विकास और नोटों की पाबंदी को लेकर पीएम मोदी ने एक बार फिर लोगों के सामने अपना पक्ष रखा पीएम ने कहा कि हमारी लड़ाई आम लोगों की तकलीफों के लिए जिम्मेदार लोगों से है । ये सारी कार्रवाई केवल उन लोगों पर नकेल कसने और काले धन को बाहर लाने के लिए है। आतंक वाद नक्सलवाद के जरिए जो लोग भ्रष्टाचार फैला रहे हैं आंतक फैला रहे है उनके पास जो जमा धन है जिसके जिरये इनका कारोबार फलफूल रहा है। उस पर हम नकेल कसेंगे।

modi_mayawati_akhalesh

नोटबंदी से कसी है काले धन पर नकेल
इसी को लेकर सारी कवायत की गई है। मै गरीबों का दर्द समझता हूं आप लोगों के सहयोग से 2014 में देश की सत्ता पर एक पूर्ण बहुमत की सरकार बनी तो गरीबों का पैसा दबा कर काला धन रखने वालों पर हमने ये कठोर निर्णय किया है। जिस पर आप लोगों के सहयोग का में तहे दिल से शुक्रिया अदा करता हूं । भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए मुझे पीएम आपने बनाया,बेइमानों को लिए अब कोई चारा नहीं है। कालेधन वाले नींद की गोलियां खरीद रहे हैं,आपके समर्थन से ये बड़ा काम हो पाया है।

माया ने साधा पीएम पर निशाना
वहीं पीएम की रैली और बयान पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने जमकर मोर्चा खोला पहले तो उन्होने पीएम मोदी की रैली को फ्लाप शो करार दे दिया। इसके साथ ही रैली में बिहार से 250-250 रूपये दे कर भीड़ जुटाने का आरोप लगा दिया। रैली के लिए भाजपा के ऊपर इल्जाम लगाते हुए मायावती ने कहा कि मोदी ने रैली के लिए कालेधन का इस्तेमाल किया है। पीएम मोदी भ्रष्टाचार को खत्म करने की बात कर रहे है, लेकिन खुद कांग्रेस की सरकार में हुए भष्ट्राचार के कालेधन को सफेद कर रहे हैं। मोदी सरकार के बाद नीतियां केलव जनता को परेशान करने के लिए हैं। उनके इस प्रयोग से महिलाओं और बुजुर्गों को परेशानी हुई है। पीएम मोदी झूठ बोलते हैं आखिर 10 महीने से तैयारी चल रही थी तो लोगों को आज क्यूं दिक्कतें हो रही हैं।

अखिलेश ने की पीएम से गुहार
तो दूसरी तरफ सूबे के मुखिया अखिलेश यादव ने आखिर फिर पीएम मोदी से पत्र लिखकर गुहार लगाई है। लोगों को हो कर 500 और 1000 के नोटों के चलन बंद हो जाने के बाद दिक्कतों को लेकर पीएम मोदी को पत्र के माध्यम से अवगत कराया है। इसके साथ ही अनुरोध किया है कि इसका इस्तेमाल 30 नवम्बर तक जारी रखें।

पीएम मोदी की नोट बंदी की घोषणा के बाद लोगों को हो रही दिक्कत को लेकर सीएम अखिलेश यादव ने पीएम मोदी को दूसरी बार पत्र के जरिए बात रखी है। उनका कहना है कि लोगों के साथ नोट बंदी के बाद परेशानियों का अम्बार लगा हुआ है। नोटों के प्रतिबंध के बाद राज्य के कई जिलों में कानून व्यवस्था को लेकर खासा दिक्कतें सामने आई हैं। जिसके बाद पीएम से पत्र के जरिए आवश्यक सेवाओं में नोटों के चलन को जारी रखने और 30 नवम्बर तक बाजार में चलने की अनुमति देने के विषय में पत्र के जरिए सीएम अखिलेश यादव ने गुहार लगाई है।

piyush-shukla(अजस्रपीयूष)