Breaking News featured दुनिया साइन्स-टेक्नोलॉजी

मंगल पहुंचा चीन का रोवर Zhurong, मंगल ग्रह की भेजी पहली तस्वीर

zhurong rover मंगल पहुंचा चीन का रोवर Zhurong, मंगल ग्रह की भेजी पहली तस्वीर

दुनिया के तमाम देश मिशन मंगल यानी मंगल ग्रह पर जीवन की तलाश करने में जुटे हुए हैं। इसी कड़ी में चीन के जुरोंग (Zhurong) रोवर ने मंगल की सतह पर अपना पहला कदम रख दिया है। जुरोंग ने मंगल ग्रह से पहली तस्वीर भेजी है।

zhurong rover मंगल पहुंचा चीन का रोवर Zhurong, मंगल ग्रह की भेजी पहली तस्वीर

चीन के रोवर ने शनिवार को पहली बार मंगल ग्रह (Mars) पर चहलकदमी की, अपने लैंडर प्लैटफॉर्म से उतरकर लाल ग्रह की सतह को छुआ है। चाइना नैशनल स्पेस ऐडमिनिस्ट्रेशन ने रोवर के फ्रंट व्यू की तस्वीरें शेयर की हैं। इन ब्लैक ऐंड वाइट तस्वीरों में Utopia Planitia दिख रहा है जहां रोवर उतरा है। दूसरी तस्वीर में स्पेसक्राफ्ट के पीछे का हिस्सा दिख रहा है।

चीन के अग्नि देवता का नाम है जुरोंग

दरअसल चीन में जुरोंग को अग्निदेवता के तौर पर देखा जाता है। मतलब चीन के अग्निदेवता जुरोंग हैं। ये रोवर अंतरिक्ष यान ‘तियानवेन-1’ (Tianwen-1 Spacecraft of China) की बेली में लगा हुआ था। ‘तियानवेन-1’ (Tianwen-1) को अंग्रेजी में समझें तो इसको ‘क्वेश्चन्स टू हेवेन’ (स्वर्ग से सवाल) कहा जाता है। बता दें कि अंतरिक्ष यान फरवरी में ही मंगल की कक्षा में पहुंच चुका था। इसी यान ने रोवर को मंगल पर उसके लैंडिंग प्लैटफॉर्म पर उतारा था।

अमेरिका के बाद चीन बना दूसरा देश

अब चीन अमरीका के बाद दूसरा ऐसा देश बन गया है जिसने मंगल ग्रह पर सुरक्षित तौर पर अपना ग्रह उतारा है। इससे पहले संवियत संग (Soviet Union) ने भी साल 1971 में मंगल पर अपना यान उतारा था, लेकिन कुछ सेकेंड बाद ही उससे संपर्क नहीं हो सका था।

जुरोंग को समझिए

चीन के जुरोंग का वजन 240 किलो है। जानकारी के अनुसार इसमें 6 वैज्ञानिक उपरकण लगे हुए हैं। जिनमें से एक हाई-रिजॉल्यूशन टोपोग्राफी कैमरा है। जो सतह और वातावरण की जानकारी जुटाएगा।

Zhurong में 6 पहिए हैं। यह मंगल पर चट्टानों के सैंपल इकट्ठा करेगा और उन पर स्टडी करेगा। यह करीब 3 महीने तक काम करेगा। लैंडिंग से पहले Tianwen-1 का ऑर्बिटर कई तस्वीरें दे चुका है।

Related posts

अमेरिका में रहने वाले दो भारतीय डॉक्टरों को प्रवासी भारतीय सम्मान

Rahul srivastava

सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, 24 सप्ताह के गर्भ के गर्भपात की अनुमति

bharatkhabar

नोएडा सेक्टर-4 की एक्सपोर्ट कंपनी में लगी भीषण आग

shipra saxena