August 19, 2022 10:55 pm
Breaking News यूपी

बेजुबानों की भूख मिटाने आगे आए युवा

22.2 बेजुबानों की भूख मिटाने आगे आए युवा

लखनऊ/बदायूं। कोरोना के चलते आज भारत के कई राज्यों में लॉकडाउन है, लोगों को घरों से निकलने की मनाही है। ऐसे में बाहर आवारा जानवरों को खाने की किल्लत हो गई है। लॉकडाउन में न केवल इंसान बल्कि आवारा जानवरों को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इन जानवरों को पेट भरने के लिए एक जगह से दूसरी जगह भागना पड़ रहा है। बदायूँ में जानवरों को भूख से बचाने के लिए युवा मंच संगठन आगे आया और इन बेजुबान भूखे जानवरों के लिये सहारा बना।

जब से लॉकडाउन लगा है तब से लगातार जनपद के हर कोने में रह रहे भूखे जानवरों के लिये रोटी भोजन उपलब्ध करा रहा है। प्रतिदिन संगठन के सदस्य भूखे जानवरों के लिये 3000 से 4000 तक रोटी बनाकर खिला रहे हैं। उनकी इस मुहिम में अब जनसहयोग भी मिलता दिख रहा है और लोग इस मुहिम की सराहना कर रहे हैं।

22 बेजुबानों की भूख मिटाने आगे आए युवा

संगठन के अध्यक्ष ध्रुव देव गुप्ता और पुष्पेंद्र मिश्रा का कहना है कि उनकी यह मुहिम जब तक लॉकडाउन है तब तक लगातार जारी रहेगी। वहीं जिलाधिकारी दीपा रंजन ने आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उनकी इस मुहिम में प्रशासन का पूरा सहयोग रहेगा।
बातचीत में ध्रुव देव गुप्ता ने बताया कि उन्होंने कुछ दिन पहले अपने घर के बाहर देखा कि एक गाय बहुत देर से खड़ी थी और शायद वो भूखी थी। उस गाय को देखकर उनके मन में अन्य जानवरों के प्रति चिंता जागी और उन्होंने जानवरों को खाना खिलाने की ठान ली।उन्होंने कहा कि मानव का कर्तव्य है कि वो सिर्फ इंसान की नहीं बल्कि जानवरों की भी मदद करें।

ध्रुव देव गुप्ता और उनकी टीम सुबह सात बजे से काम करने में लग जाती है,और शाम 8 बजे तक जानवरों को खाना खिलाती है।शहर में आवारा पशु जैसे गाय, बंदरों और कुत्तों को चौराहों पर या जहां उनका झुंड पाया जाता है जाकर खाना खिलाया जाता है।

मानवता की इस मिशाल से बंदायू का प्रशासन भी काफी खुश नजर आ रहा है। जिलाधिकारी दीपा रंजन ने बताया कि जिस तरह से नागरिक करोना की इस आपदा की घड़ी में अपने सामाजिक कर्तव्य निभा रहे हैं, उससे निश्चय ही हमें करोना को हराने में मदद मिलेगी।

Related posts

चमोली में ग्लेशियर टूटने से भारी तबाही, सीएम ने आपदा प्रबंधन विभागों को दिए सख्त निर्देश

Aman Sharma

92 साल की उम्र में मलेशिया के प्रधानमंत्री बने महातिर, चुनाव में दर्ज की शानदार जीत

lucknow bureua

सुलझ गई नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी के घर हुई चोरी की गुत्थी

kumari ashu