सोनू सूद

कुशीनगर। कोरोना काल में लोगों के लिए मसीहा बने अभिनेता सोनू सूद से कुशीनगर के एक युवक ने गांव में आतंक मचा रहे बंदर पकड़वाने की मांग की। सोनू सूद के ट्वीट के बाद वन विभाग की टीम हरकत में आई और बंदर पकड़ने गांव पहुंच गई।
बंदरों का आतंक
कोरोना काल में सोनू सूद हजारों लोगों के लिए मसीहा बने थे। सड़क पर भटक रहे लोगों को घर पहुंचाने के साथ ही उन्होंने उन्हें खाना भी मुहैया कराया। आम आदमियों के इस खास दोस्त को इस बार याद किया कुशीनगर के सोहसा मठिया गांव के एक युवक ने। उसने अपील की कि सोनू सूद उनके गांव को बंदरों के आंतक से निजात दिला दें।

युवक के ट्टवीट के बाद सोनू सूद के मैनेजर ने वन विभाग के अफसरों को फोन करके बंदर पकड़ने में आने वाले खर्च का ब्यौरा मांगा। सोनू सूद के दफ्तर के फोन आते ही अफसर हड़बड़ा गए। अफसरों ने आनन-फानन में बंदर पकड़ने के लिए गांव में टीम भेज दी। वन विभाग की टीम ने बुधवार को पूरे दिन बंदर पकड़ने के बाद देर रात उन्हें गोरखपुर के जंगलों में छुड़वा दिया।

यह है पूरा मामला
बासु गुप्ता ने सोनू सूद को ट्वीट करके लिखा कि हमारे गांव में बंदर बहुत आतंक मचा रहे हैं। आप बंदरों को पकड़वा दें। जवाब में सोनू सूद ने लिखा कि अब बंदर पकड़ना ही बाकी रह गया था दोस्त, पता भेज यह भी करके देखते हैं। इसके बाद उसने अपना पता भेज दिया। पता मिलते ही सोनू सूद की टीम हरकत में आ गई।

एक फोन और दौड़ पड़ी वन विभाग की टीम
सोनू सूद के दफ्तर से फोन आते ही अफसरों ने टीम को गांव में दौड़ा दिया। दरअसल अब तक अफसर बंदर पकड़ने में कोई रुचि नहीं ले रहे थे। मगर, सोनू सूद की टीम के गोरखपुर आने पर फजीहत होने के डर से अफसरों ने आनन-फानन में बंदर पकड़वा दिए। गांव के लोग इसके लिए सोनू सूद का शुक्रिया अदा करते नहीं थक रहे।

23 साल की मानसा वाराणसी बनी फेमिना मिस इंडिया 2020

Previous article

प्रयागराज में प्रियंका: नौका विहार के दौरान उतारी लाइफ जैकेट, सुरक्षा पर उठे सवाल

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.