September 28, 2021 3:14 am
featured यूपी

फतेहपुर में रौद्र हो रही यमुना नदी, हाईवे पर पानी पहुंचने से सड़कें जलमग्‍न

फतेहपुर में रौद्र हो रही यमुना नदी, हाईवे पर पानी पहुंचने से सड़कें जलमग्‍न

फतेहपुर: मध्य प्रदेश से छोड़ा गया पानी फतेहपुर जिले की यमुना नदी को खूब प्रभावित कर रहा है। रविवार को ललौली-फतेहपुर हाईवे पर यमुना का पानी भर गया। सुबह से यहां पर भीषण पानी के बीच वाहनों का आना-जाना बना रहा। हालांकि, कुछ ही देर बाद ट्रैफिक को पूरी तरह से रोक दिया गया। मौके पर किसी दुर्घटना से निपटने के लिए स्थानीय पुलिस बल को तैनात किया गया है। दिन भर प्रशासनिक अधिकारी मौके पर हालात का जायजा लेते रहे।

यमुना नदी में बढ़ते जलस्तर को देखते हुए प्रशासन ने एक दिन पहले भी निरीक्षण किया था। उस समय नदी का जलस्तर अपने रौद्र रूप में जा रहा था। इसे देखते हुए उप जिलाधिकारी प्रमोद झा, नायब तहसीलदार विकास पांडेय, आपदा राहत प्रभारी केके त्रिपाठी सहित स्थानीय राजस्व और पुलिस की टीम ने मौके पर पड़ताल की। इस दौरान आस-पास के लोगों को अलर्ट करते हुए लेखपाल और राजस्व निरीक्षकों को निगरानी के निर्देश दिए गए थे। साथ ही लोगों को यमुना नदी किनारे ना जाने की सलाह भी दी गयी थी।

ललौली-फतेहपुर हाइवे पर जलभराव

हालांकि, सुबह होते-होते यमुना नदी में पानी की और बढ़ोतरी हो गयी। इसका असर यह हुआ कि ललौली-फतेहपुर हाइवे पर यमुना का पानी आ गया। यह देख लोगों ने प्रशासनिक अधिकारियों और राजस्व टीम को सूचना दी। इस पर जिला प्रशासन ने मौके का मुआयना करते हुए स्थिति को देखा। इसके साथ ही पुलिस टीम भी मौके पर पहुंची और यहां से निकल रहे वाहनों को सुरक्षित निकलवाया। इस दौरान यातायात जाम और ट्रैफिक की कोई दिक्कत न हो इसके लिए स्थानीय पुलिस को तैनात भी किया गया है।

गौरतलब है कि अभी बीते दिनों गंगौली गांव के मौहारी मजरे में यमुना नदी का पानी लोगों के घरों में घुस गया था। जिसपर स्थानीय प्रशासन ने लोगों को उनके घरों से निकालते हुए उन्हें विस्थापित किया था। इतना सब होने के बाद भी यमुना नदी का पानी लगातार बढ़ रहा है।

खतरे के निशान से ऊपर पहुंचा यमुना का जलस्‍तर  

रविवार सुबह यमुना नदी का जलस्‍तर खतरे के निशान 100 मीटर से ऊपर 101.420 मीटर था। जबकि शाम को यह बढ़कर 101.730 मीटर हो गया। जबकि गंगा नदी खतरे के निशान 100.86 मीटर से सुबह 100.260 मीटर और शाम को नाम मात्र का सुधार होते हुए 100.240 मीटर रहा।

मामले पर डीएम की बैठक

वहीं, ललौली और गंगौली में यमुना नदी से आई बाढ़ को लेकर जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे ने बैठक करते हुए अधिकारियों को निर्देश दिए। डीएम ने बाढ़ नियंत्रण के नोडल अधिकारी, एडीएम और तहसीलों के एसडीएम से मौके पर जाकर निरीक्षण करके रिपोर्ट मांगी है। उन्होंने यमुना-गंगा नदी के किनारे रहने वाले लोगों को सुरक्षित करने के साथ ही वहां पर राहत शिविर सक्रिय किये जाने के निर्देश दिए हैं।

Related posts

Haridwar Kumbh 2021: महाकुंभ में दूसरा शाही स्नान, भक्त लगा रहे आस्था की डुबकी

Saurabh

राहुल गांधी की गाड़ी पर पथराव, बाल-बाल बचे कांग्रेस उपध्यक्ष

Rani Naqvi

दिल्ली: तिहाड़ जेल में बंद सुशील कुमार की अनोखी मांग, कहा टीवी लगवा दो…

pratiyush chaubey