September 25, 2022 1:46 pm
featured यूपी

राहुल गांधी को क्यों नसीहत देने लगे योगी और स्मृति ईरानी, जानिए क्या है मामला

राहुल गांधी को क्यों नसीहत देने लगे योगी और स्मृति ईरानी, जानिए क्या है मामला

लखनऊ: राहुल गांधी का एक बयान और उन पर बरस पड़ी बीजेपी, योगी आदित्यनाथ और स्मृति ईरानी ने ट्वीट करके अपनी बात रखी। राहुल केरल में दिए गए बयान के कारण निशाने पर रहे।

यह भी पढ़ें: यूपी में होंगे सबसे ज्यादा हवाई अड्डे, जल्द बनेंगे 5 इंटरनेशनल एयरपोर्ट

त्रिवेंद्रम में सभा को किया संबोधित

राहुल गांधी केरल में सभा को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि मैं 15 साल से उत्तर भारत में सांसद था, मुझे एक तरह की राजनीति की आदत पड़ गई थी। यहां आकर अब काफी नया-नया सा महसूस कर रहा हूं।

साथ ही राहुल ने कहा कि यहां के लोग मुद्दों के बारे में जानकारी रखते हैं और दिलचस्पी भी लेते हैं। अमेठी से हारने के बाद राहुल केरल को ही अपनी नई राजनीतिक जमीन मान रहे हैं।

योगी ने दी नसीहत

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट किया। उन्होंने इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह विभाजनकारी सोच का नतीजा है। योगी ने कहा कि श्रीमान राहुल जी ये विभाजनकारी संस्कार ही है, जो आप ऐसा बोल रहे हैं।

भारत हमारे लिए एक है, चाहे उत्तर हो या दक्षिण सब एक है। केरल सनातन आस्था की तपस्थली है और यूपी भगवान श्रीराम की जन्मभूमि है। यह हमारे देश की एकजुटता का प्रतीक है।

स्मृति ने कहा-एहसान फरामोश

अमेठी से सांसद स्मृति ईरानी ने कहा कि राहुल एहसान फरामोश हैं। 15 साल से वह अमेठी से सांसद रहे, लेकिन 2019 में उनको जनता ने बाहर का रास्ता दिखा दिया। अब राहुल केरल के वायनाड से सांसद हैं। अपनी बात में एक कहावत को जोड़ते हुए, स्मृति ने कहा कि इनके बारे में तो दुनिया कहती है, थोथा चना बाजे घना।

अटल जी का दिया उदाहरण

योगी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि भारत सिर्फ जमीन का टुकड़ा नहीं है, यह एक जीता जागता राष्ट्रपुरुष है। इसमें राजनीति की ओछी सोच को नहीं मिलने दिया जायेगा।

Related posts

UP: एक दिन में रिकॉर्ड 30,596 नए केस, 129 कोरोना संक्रमितों की मौत

Shailendra Singh

कोरोना अपडेट : भारत में बीते 24 घंटे में सामने आए 15,981 नए मामले, 166 की हुई मौत

Neetu Rajbhar

एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार को अपनी इस आदत का अब भी पछतावा है

Rani Naqvi