धर्मेंद्र ने क्यो कहा कि बचपन में मुझे मेरे पिताजी डांटते थे, हाथ में तिरंगा लेने पर

धर्मेंद्र ने क्यो कहा कि बचपन में मुझे मेरे पिताजी डांटते थे, हाथ में तिरंगा लेने पर

मथुरा। लाकसभा चुनाव 2019 में मथुरा की प्रत्याशी के लिए वोट मांगने उनके पति धर्मेंद्र मैदान में हैं तो वहीं वो अपने जिंद्री की पुरानी बातों को भी खुलकर शेयर कर रहे हैं उन्होंने ने अपने बचपन का किस्सा सुनाते हुए कहा कि जब वह चौथी कक्षा में पढ़ते थे तो देश पर अंग्रेजों का राज था। मां हाथ में तिरंगा पकड़ाकर कहती बेटा जा आजादी के नारे लगा।
मैं घर से बाहर निकलकर इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगाता। शाम को पिता जी जब आते और उन्हें यह पता लगता तो वह मां से कहते इसके ऐसा करने पर मेरी नौकरी चली जाएगी। मां का जवाब होता कि नौकरी जाए तो जाए लेकिन यह तो इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगाएगा।
यही नहीं धर्मेंद्र अपनी बसंती के लिए कई सभाएं कर चुके और लगातार घूम-घूमकर लोगों से जिताने की अपील कर रहे हैं। हालाकि पिछली बार हेमा मालिनी यहां से जीत गईं थी लेकिन इसबार धर्मेंद्र के आने से एक अलग माहौल बन रहा है और देश मथुरा के लोग अच्छी तादात में हेमा का समर्थन कर रहे हैं।